ठाणे जैनमंदिर में ज्ञानपंचमी, सीएम पहुंचे हरिद्वार,टैंकर और बस में टक्कर 12 की मौत

ठाणे –कोंकण शत्रुंजय तीर्थ टैंभी नाका जैन मंदिर थाने में ज्ञान पंचमी जिसे लाभ पंचमी भी कहा जाता हैं। धूमधाम से मनाई गई।जिनालय के प्रांगण में 9 नवंबर मंगलवार को ठाणे मैं शासन सम्राट नेमी सुरिश्वर जी म.सा. समुदाय के समकित सम्राट ज्योतिष विशारद परम पूज्य आचार्य श्री विजय प्रभाकर सुरीश्वरजी म.सा. एवं उनके शिष्य रत्न पूज्य मुनि प्रवर श्री महापद्मा विजयजी म.सा., मुनि श्री पद्मा विजयजी म.सा आदि ठाणा व पूज्य श्री साध्वी वृंद श्री पंजाब केसरी विजय वल्लभ सूरी म.सा. के वर्तमान गच्छाधीपति नित्यानंद सुरीश्वरजी म.सा. के आज्ञा अनुवर्ती व बरखेड़ा तीर्थ द्वारिका महत्तरा साध्वी सुमंगला श्री जी की शिष्य साध्वी रत्नशीला श्री जी म.सा., नीती सूरी समुदाय म.सा. समुदाय की साध्वी प्रज्ञाप्ता श्री जी आदि ठाणा- 16, ललितप्रभा श्री जी (लहरा) म.सा. की प्रशिष्या अमित गुणाश्री जी म.सा. आदि ठाणा- 2 ,साध्वी रत्नशीला श्री जी आदि ठाणा- 4 व सागरानंद सूरी समुदाय की साध्वी विनम्रवता श्री जी म.सा. की पावन निश्रा में आचार्य विजय प्रभाकर सुरीश्वर जी म.सा. द्वारा ज्ञान की पूजा की गई।दीपावली पर्व में जिस तरह अंधकार पर रोशनी की विजय होती हैं। उसी तरह ज्ञान पंचमी मन के अंधकार को दूर करने का दिन हैं जैन परंपरा में कार्तिक सुद पंचमी का विशेष महत्व हैं इस दिन गुरु अपने शिष्य को पहली वासना सुनाते थे। इस दिन नए शास्त्र स्वाध्याय की शुरुआत की जाती हैं। जैन पाठ शालाओं की शुरुआत भी ईस दिन होती हैं। मणिभद्र हॉल में सैकड़ों लोगों की उपस्थिति में कार्तिक सूद 5 मंगलवार 9-11-21 को मती ज्ञान पूजा, श्रुत ज्ञान पूजा, अवधी ज्ञान पूजा, मन पर्यव ज्ञान पूजा, केवल ज्ञान पूजा इन पांच पुजाओं के साथ सुबह 9 बजे ज्ञान पंचमी हर्षोल्लास पूर्वक मनाई गयी। गुरु भक्तों ने गुरु भगवंत का आशीर्वाद लिया। कार्यक्रम के आयोजक – श्री राजस्थान श्वेताम्बर मूर्तिपूजक जैन संघ, ठाणा, श्री ऋषभदेवजी महाराज जैन धर्म टेम्पल एण्ड ज्ञाती ट्रस्ट, ठाणा।————————–तप आराधना से देवभूमि की बढ़ जाती हैं पवित्रता-
अचानक आचार्यश्री से हरिद्वार भेंट करने पहुंचे सीएम धामी ने कहा आचार्यश्री की 16 दिवसीय सूरी मंत्र आराधना से निष्चित ही इस देवभूमि की पवित्रता बढ़ जाएगी। तप आराधना से प्राप्त आध्यात्मिक शक्ति से राज्य के विकास के नए द्वार जरूर खुलेंगे। यहां के रहवासियों के जीवन में आत्म शांति की भावना विकसित होगी। आचार्यश्री ने विश्व कल्याण के लिए अपनी सूरीमंत्र की आराधना को समर्पित कर अनुमोदनीय कार्य किया हैं।यह बात उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्पेंद्रसिंह धामी ने हरिद्वार में चातुर्मास कर रहे आचार्यश्री के दर्शनों के दौरान कहीं। धामी ने कहा कि वैसे तो देवभूमि हरिद्वार पर साधु-संतों का समागम होता रहता हैं लेकिन आचार्यश्री विश्व रत्न सागर सूरिश्वरजी ने 16 दिवसीय सूरी मंत्र की आराधना मौन तप के द्वारा की हैं वह अपने आप में अद्वितीय व अनुमोदनीय हैं। इस तप आराधना से जो उर्जा एवं शक्ति इस भूमि और यहां के रहवासियों को प्राप्त हुई हैं, उसके लिए संपूर्ण हरिद्वार आचार्यश्री का आभारी रहेगा। नवरत्न परिवार के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश जैन डगवाल ने यह जानकारी दी। सारे कार्यक्रम निरस्त कर उत्तरा खंड के मुख्यमंत्री हरिद्वार पहुंचे आचार्यश्री के पास।बताया जाता हैं कि शनिवार सुबह जब धामी आचार्यश्री से मिलने पहुंचे तो ना तो धामी ने इसकी कोई पूर्व सूचना अपने स्टॉफ और प्रशासनिक अमले को नहीं दी थी। धामी ने सार्वजनिक तौर पर बताया कि पिछले दो दिनों से आचार्यश्री से मुलाकात की तीव्र इच्छा हो रही थी। शनिवार सुबह मैं पूर्व- निर्धारित कार्यक्रमों को निरस्त कर आचार्यश्री से बरबस मुलाकात और दर्शन करने पहुंच गया।मुलाकात के दौरान धामी ने आचार्यश्री से आग्रह किया कि वे विहार के दौरान धामी के पैतृक निवास देहरादून पधारे। इस पर आचार्यश्री ने सहर्ष स्वीकृति प्रदान करते हुए बताया कि वे आगामी 21 नवंबर को मुख्यमंत्री के निवास पहुंचेंगे एवं वहां आयोजित पारिवारित आयोजन को निश्रा प्रदान करेंगें।—— -गुरु नवरत्न द्वारा आद्य प्रेरित नूतन वर्ष की दिव्य महाचमत्कारी महामाँगलिक आचार्य देवेश श्री विश्वरत्न सागर सुरीश्वरजी म.सा. द्वारा हरिद्वार में संपन्न हुआ।आंनद हर्ष एवं उत्साह पूर्ण माहौल में भगवान महावीर की संतानों ने गुरु मुख से श्रवण की दिव्य महामाँगलिक एकता के शंखनाद के साथ में हरिद्वार में श्रवण करवाई गई नूतन वर्ष की महामाँगलिक। उत्तराखंड राज्य का दिगम्बर जैन समाज उमड़ा सेकड़ो गुरुभक्तों ने श्रवण की नूतन वर्ष की महामाँगलिक।श्री जे.सी.जैन परिवार ने इस महा माँगलिक का लाभ लिया एवं अपने शिक्षा संस्थान कॉलेज पर छःरि पालित पैदल संघ के पहले पड़ाव की विनंती की।हस्तिनापूर , चेन्नई , बेंगलोर , देहरादुन , ऋषिकेश , सूरत , मुम्बई , पूना , लुधियाना , दिल्ली , जयपुर, हरियाणा ( मालवा) इंदौर,रतलाम,उज्जैन, सीतामऊ से गुरुभक्तों का माँगलिक श्रवण करने आगमन हुआ।हरिद्वार में उपस्थित हिन्दू समाज के वरिष्ठ संतो का आगमन हुआ।पूज्य गुरुदेवश्री की महामाँगलिक श्रवण करने पधारे।पारस चेनल पर महामाँगलिक के लाइव प्रसारण पर माँगलिक श्रवण करने जुड़े हजारों श्रद्धालु महामांगलिक प्रदाता गुरु नवरत्न पाट परम्परा के संवाहक सुरिमंत्र आराधक आचार्य देवेश श्री विश्व रत्नसागर सुरीश्वर जी म.सा.।———————टैंकर और बस में टक्कर 12 लोगों की मौत-          बाड़मेर– राजस्थान के बाड़मेर जोधपुर हाईवे पर टैंकर और बस में भयंकर टक्कर हो गई। जिसमें 12 लोगों की जगह पर ही मौत हो गई। हादसे के बाद बाड़मेर जोधपुर हाईवे पर जाम लग गया। बताया जा रहा है कि टैंकर से टक्कर के बाद बस में आग लग गई। बस में हादसे के समय 25 लोग सवार थे। बस अग्निकांड में 12 लोगों की मौत की पुष्टि हो गई हैं। सारे शव कंकाल बन गए।उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना पर दुख व्यक्त किया साथ ही मृतकों के परिजनों को 2-2लाख की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया हैं। घायलों को 50-50 हजार की आर्थिक मदद दी जाएगी। बताया जा रहा हैं कि टैंकर से टक्कर के बाद बस में आग लग गई वही 12 लोगों के शव बरामद हुए हैं, जबकि 22 लोगों को रेस्क्यू कर अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया हैं। जोधपुर रेंज के आईजी नवजोत गोगोई के अनुसार हादसा इतना भयंकर था कि जिंदा लोग जल गए हैं।उनका कंकाल रह गया है 12 लोगों की मौत हो गई हैं। 2 किसानों ने 22 लोगों की जान बचाई। किसान चेनाराम और उसके साथी ने अपनी जान जोखिम में डालकर 22 लोगों को बस से जिंदा निकाला दोनों बस में सवार लोगों को निकालने के लिए अंदर घुस गए थे। किसान चेनाराम के अनुसार वह अपने खेत में काम कर रहा था इसी दौरान एक भयंकर आवाज आई वह साथी घीसाराम के साथ सड़क पर आया देखा तो बस में आग लग गई। इसके बाद बस की खिड़कियों के कांच तोड़ना शुरू कर दिया।अंदर घुस कर लोगों को बाहर निकालना शुरू कर दिया दोनों ने 22 लोगों को बचा दिया इतने लोगों के बचाने के बाद भी चेना राम ने इस बात पर गम जताया की एक बच्ची को वह बचा सकते थे,लेकिन ऐसा करने में कामयाब नहीं हो पाए। हादसे में दोनों किसानों के बाल भी जल गए। बस में सवार एक यात्री ने बताया कि बस 9:55 पर बालोतरा से रवाना हुई थी। इसी दौरान सामने से रॉन्ग साइड में आ रहे टैंकर ने बस को टक्कर मार दी। जिसके बाद बस में अचानक आग लग गई। आग इतनी भयंकर थी कि चंद मिनटों में बस जलकर खाक हो गई। 22 लोगों का इलाज जारी हैं। घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस और प्रशासन के साथ ही पचपदरा विधायक मदन प्रजापत, प्रभारी मंत्री सुखराम बिश्नोई, संभागीय आयुक्त समेत कई अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए। रेस्क्यू ऑपरेशन जारी हैं वहीं हादसे में जिन लोगों की मौत हुई उनके शव को भी निकालने की कोशिश की जा रही हैं। घटना पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दुःख जताया। उन्होंने कहा बाड़मेर में हुई इस बस ट्रक दुर्घटना के संबंध में जिला कलेक्टर बाड़मेर से फोन पर वार्ता कर राहत बचाव कार्यों के संबंध में निर्देशित किया हैं। घायलों का बेहतर से बेहतर इलाज सूचित किया जाएगा।