ठाणे देवी, रेलवे ब्लॉक, गगनयान, जैन न्यूज़

ठाणे- महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने नरावत्रि के पहले दिन मां आद्यशक्ति से आशीर्वाद लिया और फिर विपक्ष पर हमला बोला। ठाणे में नवरात्रि के पहले दिन देवी दुर्गा के रथ को खींचने के बाद मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि राज्य की जनता बुद्धिमान हैं और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को 2024 के लोकसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत देगी। शिंदे ने कहा कि विपक्ष मोदी की आलोचना केवल चर्चा और लोगों की नजरों में आने के लिए करता हैं। मुख्यमंत्री के साथ इस मौके पर उनके बेटे और कल्याण से सांसद श्रीकांत शिंदे भी मौजूद रहे। ठाणे को शिवसेना का गढ़ माना जाता हैं। इतना ही नहीं एकनाथ शिंदे ठाणे में ही रहते हैं।महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने शिवसेना (यूबीटी) नेता उद्धव ठाकरे पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि जो लोग हिंदुत्व की बात करते हैं, उन्हें कांग्रेस जैसी पार्टियों से हाथ मिलाने में कोई हिचकिचाहट नहीं हुई, जिसे शिवसेना संस्थापक बाल ठाकरे ‘हमेशा के लिए दफन’ करना चाहते थे। शिंदे ने कहा कि आने वाले चुनावों में लोग ऐसे लोगों के नकली हिंदुत्व के मुखौटे को उतार देंगे।महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रीएकनाथ शिंदे ने कहा कि घर में रहकर कोई चुनाव नहीं जीत सकता। क्षेत्र में जाकर काम करना होगा, लोगों के साथ रहना होगा और उनकी समस्याओं का समाधान करना होगा। जिन लोगों ने नागरिकों को धोखा दिया और कांग्रेस से हाथ मिलाया, उन्हें यह दावा करने का कोईअधिकार नहीं हैं कि वे हिंदुत्व की रक्षा करते हैं।जय अम्बे मां सार्वजनिक मंडल द्वारा टेम्भी नाका पर नवरात्रि महोत्सव का आयोजन किया गया हैं। इस उत्सव की शुरुआत शिवसेना के दिवंगत ठाणे जिला प्रमुख आनंद दिघे ने की थी और उनकी मृत्यु के बाद मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने इस उत्सव की परंपरा को जारी रखा हैं। विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता और पदाधिकारी यहां देवी के दर्शन के लिए आते हैं। देवी के दर्शन के लिए भक्त ठाणे, मुंबई उपनगर और रायगढ़ जिले से भी आते हैं। इससे त्योहार के दौरान टेम्भी नाका में नागरिकों की भारी भीड़ उमड़ती हैं। इसके अलावा यहां मेला भी लगता हैं। इस दौरान वाहनों का बोझ बढ़ने से यहां की सड़कें भीड़भाड़ वाली हो जाती हैं। इस दुविधा को कम करने के लिए पिछले कुछ वर्षों से यहां यातायात परिवर्तन लागू किया गया हैं। इस वर्ष भी, यातायात परिवर्तन इसी तरह से लागू किए गए हैं और इसकी अधिसूचना ठाणे यातायात शाखा के पुलिस उपायुक्त विनयकुमार राठौड़ ने दी हैं।शिव सेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे पार्टी (शिवसेना यूबीटी) प्रमुख उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मी ठाकरे कल नवरात्रि के अवसर पर ठाणे पहुंचीं। इस दौरान उन्हें ठाणे के टेम्बी नाका पर देवी के दर्शन हुए। लेकिन साथ ही एक नया राजनीतिक विवाद भी देखने को मिला। ठाणे में ठाकरे समूह के नेताओं और शिवसैनिकों ने आरोप लगाया है कि जब रश्मि ठाकरे टेम्बी नाका में देवी के दर्शन करने आई थीं तो जानबूझकर पंखे, कूलर और साउंड बंद कर दिए गए थे। जिसके चलते इस मुद्दे पर एक बार फिर से ठाकरे बनाम शिंदे गुट भिड़ गया हैं।जब से एकनाथ शिंदे ने शिव सेना में बगावत कर मूल पार्टी पर कब्जा किया हैं, तब से शिव सेना की पूरी राजनीति ही बदल गई हैं।ऐसे में अब पूरा ठाकरे परिवार शिंदे के खिलाफ मैदान में उतर गया हैं।जहां एक तरफ उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे सीधे तौर पर शिंदे पर हमला बोल रहे हैं। तो वहीं दूसरी तरफ उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मी ठाकरे शिंदे के गढ़ यानी ठाणे में जाकर ठाकरे ग्रुप के शिवसैनिकों को ताकत देती नजर आ रही हैं।टेभीं नाका देवी के मंडप के भूमि पूजन में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथजी शिंदे, व राजा भाऊ भालचंद्र गवारी पूजन करते हुए।—————————–दिल्ली, गोरखपुर, बिहार और मुंबई लोकल समेत 29 दिनों तक 2720 ट्रेनें रद्द, रेलवे के सुपर मेगा ब्लॉक की पूरी खबर-मुंबई – पश्चिम रेलवे पर सुपर मेगा ब्लॉक की शुरुआत शनिवार से हो रही हैं। आज से 7 नवंबर तक लोकल ट्रेनें और मेल एक्सप्रेस ट्रेनें प्रभावित होंगी। ऐसे में दिवाली से पहले घर जाने वालों को दोबारा यात्रा की प्लानिंग करनी पड़ सकती हैं।दरअसल खार से गोरे गांव तक छठी लाइन के कनेक्शन के लिए 7 अक्टूबर से ही काम शुरू हो चुका है, लेकिन अब शनिवार से रोजाना लोकल ट्रेनें रद्द होने का सिलसिला शुरू होगा। 20 अक्टूबर से रोजाना 6 लोकल ट्रेनें रद्द होनी शुरू हुईं, जब कि 25 अक्टूबर से 29 अक्टूबर तक रोजाना 330 से 400 सेवाएं रद्द होंगी। इसके बाद 30 अक्टूबर से 4 नवंबर तक रोजाना 100-200 सेवाएं रद्द होंगी।लंबी दूरी की ट्रेनों पर इस तरह पड़ेगा असर-पश्चिम रेलवे के सुपर मेगा ब्लॉक में 43 लंबी दूरी की ट्रेनें रद्द की जा रही हैं। 26 अक्टूबर से 4 नवंबर तक लंबी दूरी की ट्रेनों में यात्रा करने वालों पर असर पड़ेगा। रद्द होने वाली ट्रेनों में मुंबई से जोधपुर,बीकानेर, बाडमेर, जबलपुर, गोरखपुर, दिल्ली और सहरसा जाने वाली ट्रेनों के नाम शामिल हैं। 56 ट्रेनों को शॉर्ट टर्मिनेट किया जाएगा यानी ये ट्रेनें अंतिम पड़ाव से पहले ही वापी या पालघर में रोक दी जाएंगी और यहीं से रवाना होंगी। ब्लॉक के दौरान 6 ट्रेनों को बांद्रा टर्मिनस के बजाय दादर से रवाना किया जाएगा। पश्चिम रेलवे के अनुसार, प्रभावित ट्रेनों के यात्रियों को एसएमएस के जरिए जान कारी दी जा रही हैं।लोकल ट्रेनों पर महाब्लॉक का असर- कट एंड कनेक्शन का काम 7 अक्टूबर से शुरू हो चुका हैं। 29 दिनों तक चल रहे इस काम के लिए कुल 2720 सर्विस रद्द होंगी, जबकि 1820 सर्विस देरी से चलेंगी। इस ब्लॉक का सबसे ज्यादा असर दशहरा के बाद होगा, जब करीब एक सप्ताह तक दिन में 80 से 100 लोकल ट्रेनों की सेवाएं रद्द होंगी। 25 अक्टूबर से 29 अक्टूबर तक सबसे ज्यादा परेशानी होगी, जब रोजाना 330 से 400 सेवाएं रद्द होने वाली हैं।महाब्लॉक के बाद बड़ा फायदा-अभी बांद्रा टर्मिनस से निकलने वाली कुछ लंबी दूरी की ट्रेनों को लोकल ट्रेनों के ट्रैक को शेयर करना पड़ता हैं। अब जब खार से गोरेगांव तक छठी लाइन भी तैयार हो चुकी है, तब बांद्रा से पहले ट्रेनों के लिए जो बॉटल नेक हो रहा था, वह खत्म हो जाएगा। हालांकि, छठी लाइन को बोरीवली तक बनाया जाना हैं और गोरेगांव से बोरीवली के बीच दूसरे चरण में इसका काम जारी हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अगले दो साल में पश्चिम रेलवे पर अंधेरी से बोरीवली तक बहुत से काम एक साथ चलने वाले हैं। इस दौरान लोकल ट्रेनों की सेवाएं बढ़ाने के लिए सोच-समझकर फ़ैसला लेना होगा, क्योंकि ट्रेनें देरी से चलने, पॉइंट फेल होने जैसी घटनाएं बढ़ सकती हैं।—————————————————अंतरिक्ष में भारत ने रचा इतिहास, इसरो ने सफलतापूर्वक लॉन्च की गगनयान की पहली टेस्ट फ्लाइट -नई दिल्ली- तमाम बाधाओं और चुनौतियों से पार पाते हुए इसरो ने गगनयान मिशन की पहली टेस्ट फ्लाइट लॉन्च कर इतिहास रच दिया हैं।इसरो ने रविवार सुबह 10 बजे श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से गगनयान के क्रू मॉड्यूल को सफलतापूर्वक लॉन्च किया।इसे टेस्ट व्हीकल अबॉर्ट मिशन-1 (Test Vehicle Abort Mission -1) और टेस्ट व्हीकल डेवलपमेंट फ्लाइंट (TV-D1) भी कहा जा रहा हैं।इसरो चीफ एस सोमनाथ ने कहा कि मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि टीवी-डीवी 1 (क्रू मॉड्यूल) मिशन का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया गया हैं। उन्होंने इस सफलता के लिए इसरो की पूरी टीम को बधाई दी।टेस्ट व्हीकल एस्ट्रोनॉट के लिए बनाए गए क्रू मॉड्यूल को अपने साथ ऊपर ले गया।रॉकेट क्रू मॉड्यूल को लेकर साढ़े सोलह किलोमीटर ऊपर गया। और फिर बंगाल की खाड़ी में लैंड हुआ। इससे पहले इसरो प्रमुख ने लॉन्चिंग टलने पर कहा था कि हम यह पता लगा रहे कि क्या गड़बड़ी हुई।इस टेस्ट उड़ान की सफलता गगनयान मिशन के आगे की सारी प्लानिंग की रूपरेखा तय करेगी। इसके बाद एक अगले साल एक और टेस्ट फ्लाइट होगी जिसमें ह्यूमेनॉयड रोबोट व्योममित्र को भेजा जाएगा। अबॉर्ट टेस्ट का मतलब होता है कि अगर कोई दिक्कत हो तो एस्ट्रोनॉट के साथ ये मॉड्यूल उन्हें सुरक्षित नीचे ले आए।इसरो ने बताया कि क्रूमॉड्यूल (जिसमें अंतरिक्ष यात्री सवार होंगे) और चालक बचाव प्रणाली से लैस एकल-चरण तरल प्रणोदन रॉकेट अंतरिक्ष केंद्र के पहले प्रक्षेपण तल से रवाना किया गया।परीक्षण यान मिशन का उद्देश्य अंततः गगनयान मिशन के तहत भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को पृथ्वी पर वापस लाने के लिए क्रू मॉड्यूल और चालक बचाव प्रणाली के सुरक्षा मानकों का अध्ययन करना हैं।गगनयान मिशन का लक्ष्य 2025 में तीन दिवसीय मिशन के तहत मनुष्यों को 400 किलो मीटर की ऊंचाई पर पृथ्वी की निचली कक्षा में भेजना और उन्हें सुरक्षित रूप से पृथ्वी पर वापस लाना हैं।क्रू मॉड्यूल के अंदर ही भारतीय अंतरिक्षयात्री यानी गगननॉट्स बैठकर धरती के चारों तरफ 400 किलोमीटर की ऊंचाई वाली निचली कक्षा में चक्कर लगाएंगे। इसरो अपने परीक्षण यान – प्रदर्शन (टीवी-डी1), एकल चरण तरल प्रणोदन रॉकेट के सफल प्रक्षेपण का प्रयास करेगा। इस क्रू मॉड्यूल के साथ परीक्षण यान मिशन समग्र गगनयान कार्यक्रम के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर हैं।अतंरिक्ष के क्षेत्र में भारत के लिए आज का दिन बेहद खास हैं। अंतरिक्ष में भारत ने बड़ी छलांग लगाई। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से गगनयान मिशन के लिए मानवरहित उड़ान लॉन्च की हैं।तमाम बाधाओं और चुनौतियों से पार पाते हुए इसरो ने गगनयान मिशन की पहली टेस्ट फ्लाइट लॉन्च कर इतिहास रच दिया हैं। इसरो ने रविवार सुबह 10 बजे श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से गगनयान के क्रू मॉड्यूल को सफलतापूर्वक लॉन्च किया।इसे टेस्ट व्हीकल अबॉर्ट मिशन-1 (Test Vehicle Abort Mission -1) और टेस्ट व्हीकल डेवलपमेंट फ्लाइंट (TV-D1) भी कहा जा रहा हैं।शनिवार को संपूर्ण परीक्षण उड़ान कार्यक्रम संक्षिप्त रहने की उम्मीद हैं क्योंकि ‘टेस्ट व्हीकल एबॉर्ट मिशन’ (टीवी-डी1) क्रू एस्केप सिस्टम (चालक बचाव प्रणाली) और क्रू मॉड्यूल को 17 किमी की ऊंचाई पर प्रक्षेपित किया, जो श्रीहरिकोटा से लगभग 10 किमी दूर समुद्र में सुरक्षित उतरा। बाद में बंगाल की खाड़ी से नौसेना द्वारा इन्हें खोज कर निकाला जाएगा।मॉड्यूल को समुद्र में स्प्लैश डाउन करते समय उसके पैराशूट खुल गए और इनकी लैंडिंग सुरक्षित तरीके से हुई।——————————-जैन न्यूज़-आचार्य चिदानंदजी को गोडवाड़ केसरी की उपाधि-विजोवा-शांतिदूत गच्छाधिपति परम पूज्य आचार्य श्री नित्यानंद सूरीश्वरजी महाराजा साहेब के ज्येष्ठ शिष्य प्रखर तत्वचिंतक , प्रखरवक्ता , अध्यात्म शिखर ,रोम रोम में संयम सुवास , चित समाधा न मंडप के निर्मल प्रवचनकार , निस्पृह वेदिका पर बिराजमान ऐसे परम पूज्य आचार्य श्री विजय चिदानंद सूरीश्वरजी महाराजा साहेब आदि मुनिराज लक्ष्मीचंद्र विजय जी, मुनि विद्यानंद विजय जी आदि म.सा. का चातुर्मास बिजोवानगर में चल रहा हैं। उनका 17 अक्टूबर 23 को संक्रांति दिवस मनाया गया व अब उनका अवतरण दिवस मनाया गया। गुरु भगवंनत का चातुर्मास विजोवा में धूमधाम से चल रहा हैं। गोडवाड़ के पुराने जैन मंदिरों का जिणोद्वार का काम चल रहा हैं। कई मंदिर का हो चुका हैं और कहीं मंदिर का चल रहा हैं। गुरुदेव के इस क्षेत्र में कई कार्यो को देखते हुए भिजवा जैन संघ गढ़वाल स्टेशन वह देश के कैसे श्रेष्ठवरियों ने निर्णय लिया हैं कि गुरुदेव के जन्मदिन 17 अक्टूबर 2023 पर उन्हें गोड़वाड़ केसरी की उपाधि से अलंकृत किया जाए। सैकड़ो लोगों की उपस्थिति में गुरुदेव को इस उपाधि से अलंकृत किया गया।