₹2000 के नोट, जैन की हत्या, जैन न्यूज़

नई दिल्ली -भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने 2,000 रुपये के नोट को चलन से बाहर करने की शुक्रवार को घोषणा कर दी हैं। हालांकि इस मूल्य के नोट बैंकों में जाकर 30 सितंबर तक जमा या बदले जा सकेंगे। आरबीआई ने शाम को जारी एक बयान में कहा कि अभी चलन में मौजूद 2,000 रुपये के नोट 30 सितंबर तक वैध मुद्रा बने रहेंगे। इसके साथ ही आरबीआई ने बैंकों से 2,000 रुपये का नोट देने पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने को कहा हैं। RBI ने 2016 के नोटबंदी के बाद जारी 2000 रुपये के नोट को वापस लेने का ऐलान किया हैं। हालांकि बाजार में मौजूद 2000 नोट फिलहाल चलन में रहेंगेआर बीआई ने कहा कि 30 सितंबर तक ये नोट सर्कुलेशन बने रहेंगे। यानी जिनके पास इस समय 2000 रुपये के नोट हैं, उन्हें बैंक से एक्सचेंज करना होगा।आरबीआई ने प्रेस रिलीज में बताया कि 2018-19 में ही दो हजार रुपये का नोट को छापना बंद कर दिया था।साल 2016 नवंबर में नोटबंदी के बाद 2000 हजार रुपये का नोट लाया गया था।नोटबंदी में 500 और 1000 रुपये के नोट बंद कर दिया गया था।एक बार में 20 हजार रुपये तक के नोट बदले जाएंगे।अगर आपके पास 2000 के नोट हैं तो 30 सितंबर की तारीख याद कर लें।इससे पहले आप बैंक में जाकर इस बदल सकते हैं।यानी 30 सितंबर तक आप अपने नजदीकी बैंकों में जाकर 2000 के बदल पाएंगे। इसके बदले आपको दूसरी वैलिड करेंसी मिल जाएंगी।कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि 2000 के नोट कभी भी ‘क्लीन’ नोट नहीं थे।लोगों ने इस नोट का इस्तेमाल बड़ी संख्या में कभी नहीं किया।इसका इस्तेमाल सिर्फ़ काले धन को अस्थायी तौर पर रखने के लिए किया गया।पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ‘नोटबंदी ने अपना चक्र पूरा कर लिया हैं।आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा हैं,पहले बोले 2000 का नोट लाने से भ्रष्टाचार बंद होगा।अब बोल रहे हैं 2000 का नोट बंद करने से भ्रष्टाचार ख़त्म होगा इसलिए हम कहते हैं, पीएम पढ़ा लिखा होना चाहिए।आम आदमी पार्टी के नेता सौरभ भारद्वाज ने आरोप लगाया कि ‘जब नोटबंदी की थी तो सैंकड़ों लोगों की जान गई, लाखों लोगों के काम-धंधे बंद हो गए और अर्थव्यवस्था ठप हो गई। उसका कोई फ़ायदा न तो काले धन में मिला, न आतंकवाद रोकने में मिला और न ही भ्रष्टाचार को रोकने में मिला.’।समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ने भी आरबीआई के इस फैसले को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा हैं।नवंबर 2016 में एक रात अचानक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच सौ और हज़ार रुपए के नोट बंद करने की घोषणा कर दी।फिर सरकार गुलाबी रंग का दो हज़ार रुपए का नया बड़ा नोट लेकर आई थी। इस बीच भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व डिप्टी गवर्नर आर गांधी (R Gandhi) ने कहा कि भारत को 500 रुपये से अधिक मूल्यवर्ग की करेंसी नोटों की आवश्यकता नहीं हैं। उन्होंने कहा कि जिस तरह से डिजिटल लेन-देन बढ़ रहा है, मुझे नहीं लगता कि उच्च मूल्यवर्ग के किसी भी नोट की जरूरत हैं।आर गांधी के अनुसार, डिजिटल पेमेंट सिस्टम के व्यापक रूप से सफल होने के बाद और कम महंगाई दर का मतलब है कि उच्च मूल्यवर्ग के करेंसी नोटों की अब और आवश्यकता नहीं हैं।साल 2016 में नोटबंदी के बाद रिजर्व बैंक ने 2000 रुपये के नए नोट को जारी किया था। वहीं, आर गांधी ने 2014 से 2017 तक डिप्टी गवर्नर के रूप में कार्य करते हुए आरबीआई के मुद्रा प्रबंधन विभाग को संभाला था। उन्होंने कहा कि 2000 रुपये के नोट की शुरूआत डिमोनेटाइजे शन के सिद्धांतों के खिलाफ थी।इसे शॉर्ट टर्म टेक्निकल निर्णय के रूप में स्वीकार किया गया था।RBI 2000 का नोट चलन से बाहर कर रही हैं। खबर लगते ही गुजरात में ज्वेलर्स ने 2000 के नोट से सोना खरीदने वालों के लिए रेट बढ़ा दिए हैं। वे 10 ग्राम की कीमत 70 हजार रुपए तक वसूल रहे हैं, जबकि शनिवार को राज्य में इसका रेट 60 हजार 275 रुपए हैं।बाजार के जानकारों ने पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि शुक्रवार को यहां 10 ग्राम सोना खरीदने पर 5 से 10 हजार रुपए अधिक लिए गए। यानी प्रति 10 ग्राम सोना 70 हजार रुपए में बिका। वहीं एक किलो चांदी के की कीमत 80 हजार रुपए किलो हो गई।आरबीआई गवर्नर शक्ति कांत दास ने कहा हैं की अफरातफरी करने की जरूरत नहीं हैं। बैंकों में करेंसी बदलने की व्यवस्था की गई हैं और 4 महीने की अवधि हैं। 23 मई को नोट बदलते वक्त कहीं भीअफरातफरी नहीं थी,और सभी बैंकों में आराम से कामकाज हो रहा था। कहीं भी कोई गर्दी या गड़बड़ नहीं थी।——————————————-जैन न्यूज़-जोहान्सबर्ग (दक्षिण अफ्रीका)- 15 मई युगांडा की राजधानी कंपाला में समाचार आया कि एक हिंदुस्तानी को गोली मार दी गई हैं। एक ऑफ-ड्यूटी पुलिस कांस्टेबल ने चोरी की एके-47 राइफल से 39 वर्षीय एक भारतीय साहूकार की गोली मारकर हत्या कर दी। 46,000 रुपये) ऋण, मीडिया रिपोर्टों में कहा गया हैं। उत्तम सरेमलजी भंडारी बारवा वास, सेवाड़ी, राजस्थान के रहने वाले थे।कंपाला मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने कहा कि 30 वर्षीय इवान वाबवायर को 12 मई को उत्तम भंडारी पर गोली चलाने के बाद गिरफ्तार किया गया था।कंपाला स्थित समाचार पत्र डेली मॉनिटर के अनुसार, अपराध स्थल के रोंगटे खड़े कर देने वाले फुटेज में दिखाया गया हैं कि कैसे वाब वायर ने भंडारी पर करीबी रेंज से कई राउंड गोलियां चलाईं। पुलिस ने कहा कि भंडारी टीएफएस वित्तीय सेवाओं के निर्देशक थे और वाबवायर उनके मुवक्किल थे।कंपाला (आईएएनएस)| युगांडा के कंपाला में 21 लाख शिलिंग (46,000 रुपये) के कर्ज को लेकर एक पुलिसकर्मी ने 39 वर्षीय भारतीय साहूकार की कथित तौर पर गोली मारकर हत्या कर दी। कंपाला मेट्रो पॉलिटन पुलिस के अनुसार, 30 वर्षीय पुलिस कांस्टेबल इवान वाबवायर ने 12 मई को राजा चैंबर्स के अंदर उत्तम भंडारी पर एके 47 से गोलियां चलाईं।कंपाला स्थित अखबार डेली मॉनिटर ने बताया कि पुलिस फ्लाइंग स्क्वाड यूनिट और बुसिया में स्थानीय पुलिस ने 14 मई को वाबवायर को गिरफ्तार कर लिया। वह पड़ोसी केन्या में दाखिल होने की कोशिश कर रहा था।पुलिस के अनुसार, भंडारी टीएफएस वित्तीय सेवाओं का निर्देशक था और वैबवायर उसका क्लाइंट था। दोनों मिले और इस बात को लेकर गलतफहमी पैदा हो गई कि पुलिस वाले पर फर्म का कितना बकाया हैं।वाबवायर कथित तौर पर 2020 से दो ऋण चुका रहा हैं।कंपाला मेट्रोपॉलिटन पुलिस के प्रवक्ता पैट्रिकओनयांगो ने कहा कि पहला ऋण सीधे उनके वेतन से काटा गया था, जबकि दूसरा नहीं काटा गया था।जब उसे दूसरे ऋण के बारे में 12 मई को बताया गया, तो वह भड़क गया और कथित तौर पर बहस करना शुरू कर दिया, यह दावा करते हुए कि यह आंकड़ा बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया हैं।ओनयांगो ने डेली मॉनिटर को बताया, अंदर मौजूद कर्मचारियों में से एक ने कहा कि अधिकारी ने पहले कार्यालय के अंदर लगे सीसीटीवी कैमरों को नष्ट किया। जो लोग अंदर थे वे सभी बाहर निकल गए। हम अभी भी नहीं जानते कि उसके बाद क्या हुआ। हमने अपनी सीसीटीवी टीम को फुटेज निकालने और विश्लेषण करने के लिए कहा है कि वास्तव में क्या हुआ था।उन्होंने कहा कि गोली मारने के बाद, वाबवायर एक बाइक से कंपाला में सेंट्रल पुलिस स्टेशन पहुंचा, जहां उसने अपने हत्या के हथियार एके 47 को रख कर भाग गया।गोलीबारी के बाद घटनास्थल का दौरा करने वाले जासूसों ने 13 कारतूस बरामद किए।पुलिस ने आगे कहा कि वाबवायर का मानसिक अस्थिरता का इतिहास रहा हैं और मानसिक रूप से टूटने के कारण दो बार अस्पताल में भर्ती होने के बाद उसे 2018 में छह साल के लिए बन्दूक रखने से प्रतिबंधित कर दिया गया था।वाबवायर, जिसे अब पूर्वी युगांडा के बुसिया पुलिस स्टेशन में रखा गया हैं, ने एक साथी पुलिसकर्मी से बंदूक चुराई थी।जांच जारी रहने के कारण भंडारी के शव को मुलागो सिटी मोर्चरी में रखा गया हैं। पुलिस उप महानिरीक्षक, जेफ्री टुमुसीमे कात्सिगाजी ने युगांडा में भारतीय समुदाय से मुलाकात की और उन्हें उनकी सुरक्षा का आश्वासन दिया।युगांडा में अकेले मई के महीने में बंदूक की हिंसा में तेजी देखी गई हैं। 6 मई को राजधानी में मुखर व्लॉगर इब्राहिम तुसुबीरा उर्फ जजा इकुली की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।एक 26 वर्षीय निजी सुरक्षा गार्ड पीटर ओचोरोई ने 13 मई को अपने सहयोगी की गोली मारकर हत्या कर दी।2 मई को, एक बॉडीगार्ड ने अपने बॉस, श्रम, रोजगार और औद्योगिक संबंधों के एक राज्य मंत्री चार्ल्स एंगोला पर कम से कम 28 गोलियां बरसाईं।————–नई दिल्ली – पंजाब केशरी आचार्य श्री विजय वल्लभ सूरी समुदाय के गच्छाधिपति श्रुत भास्कर आचार्य श्रीमद विजय धर्मधुरंधर सूरीश्वरजी म.सा. मुनि श्री ऋषभचन्द्र विजय जी म.सा, मुनि श्री धर्म कीर्ति विजय जी म.सा, मुनि श्री महाभद्र विजय जी म.सा आदि ठाणा 4 दिनांक 21 मई 2023 रविवार कोअटारी बॉडर से वाघा बॉर्डर में प्रवेश किया।गुरु भूमि गुजरांवाला (पाकिस्तान) में गुरु भूमि दर्शन वंदन हेतु वहां पर गए हैं। गुरु भगवंतो ने अपने साथ 20 श्रद्धालु भक्तो को भी लिया हैं। पाकिस्तान में गुरुदेव श्री आत्मारामजी माराज साहेब की समाधी स्थल गुंजारवाला जायेगे ! गुरुदेव के 25 जन के जत्थे को भारत सरकार व पाकिस्तान सरकार ने एक महिने की अनुमती (विजा ) दिया हैं। एक महीने मे वे कई प्राचीन जैन तीर्थो का सर्वे कर व वहां जैन लोगो से संपर्क कर तीर्थों का जीणोद्वार कराकर जैन तीर्थ यात्रीयो का आवागमन चालु करेंगे। जिससे हिंदुस्तान पाकिस्तान के लोगो मे भाईचारा बढ़ेगा व अहिंसा शांती का पैगाम पाकिस्तानी जनता को मिलेगा। गुरुदेव ने लाहौर यूनिवर्सिटी के म्यूजियम में 22-5-2023सोमवार को चरण पादुका (आत्मा राम जी महाराज ) के दर्शन किए।——————————-मनभाई तातेड की दीक्षा हुई संपन्न नया नाम मिला -आत्म सुंदर श्री जी म.सा.-ठाणे -मनभाई तातेड़ के दीक्षा निमित्त तातेड परिवार द्वारा तीन दिवसीय महोत्सव का आयोजन किया गया था। 23 वर्षीय मनभाई की दीक्षा दांतराई (राजस्थान) में 22,23,24 मई 2023को आयोजित की गई।मुमुक्षु रत्न मन कुमार शा.मूलचंद जी अदींगजी तातेड धार्मिक परिवार से हैं उनके पिता श्री हितेशभाई और चाचा भरत भाई तातेड धार्मिक गतिविधियों में हमेशा आगे रहते हैं।करोड़ों रुपए के व्यापार धंधे को छोड़ दीक्षा लेकर मोक्ष की राह पर चल पड़े हैं।दांतराई निवासी श्रीमती बबी बाई मूलचंदजी तातेड़ परिवार के कुल दीपक मुमुक्षुरत्न मनकुमार सुपुत्र-गीताबेन हितेशभाई तातेड़ दीक्षा निमित्ते दांतराई नगरे त्रि दिवसिय प्रभु भक्ति उत्सव मनाया गया।ज्येष्ठ सुद ३, सोमवार, दि. २२-०५-२०२३ सुबह ८.०० बजे परम पूज्य गच्छाधिपति आचार्य भगवंत एवं विशाल संख्या में साधु-साध्वीवृंदों का भव्यातिभव्य नगर प्रवेश-सामैय्या हुआ।सुव्रत संयम वाटिका का उद्घाटन एवं प्रासंगिक प्रवचन हुआ।मनभाई द्वारा गुरु वधामणा, मुमुक्षु के श्रमणवेश रंगोत्सव, छाब भरने का कार्यक्रम हुआ।दोपहर २.०० बजे अर्हद् महाअभिषेक हुआ।
शाम ७.०० बजे गुरु भगवंतों के साथ संध्या भक्ति हुई।रात ८.०० बजे बांदोली पश्चात मंडप में मातृ- पितृ वंदन हुआ।ज्येष्ठ सुद ५, बुध वार, दि. २४-०५-२०२३प्रातः 5.15 बजे घर से विदाई हुई।प्रातः 5.45 बजे मुमुक्षु का प्रव्रज्या मंडप में प्रवेश हुआ। प्रातः 6.00 बजे विजय तिलक की बेलाआई।प्रातः 6.30 बजे दीक्षा विधि का शुभारंभ हुआ।सुबह 8.00 बजे रजोहरण अर्पण किया गया।गच्छाधिपति आ.भ. श्रीमद् विजय सोमसुंदर सूरीश्वरजी महाराजा समुदाय में अंगीकार 24 मई 2023 को दीक्षा हुई। मुमुक्षु रत्न मनकुमार का नया नाम- आत्मसुंदर श्री जी म.सा.रखा गया।.-22,23, 24 मई 2023 दीक्षा महोत्सव प्रसंगे सहपरिवार पधारने हेतु भावभरा आमंत्रण दांतराई निवासी श्रीमती बबिबाई मूलचंद जी तातेड़ द्वारा दिया गया था। शुभ स्थल- सुव्रत संयम वाटिका, दांतराई,वाया-रेवदर,जि.सिरोही, स्टे.आबु रोड, (राज.)था।