ठाणे के जैन युवक की दीक्षा,जैन न्यूज़,साइक्लोन,प्रिंस

ठाणे -मनभाई तातेड़ के दीक्षा निमित्त तातेड परिवार द्वारा तीन दिवसीय महोत्सव का आयोजन किया गया था। 23 वर्षीय मनभाई की दीक्षा दांतराई (राजस्थान) में 22,23,24 मई 2023को आयोजित की जाएगी।मुमुक्षु रत्न मन कुमार शा.मूलचंद जी अदींगजी तातेड धार्मिक परिवार से हैं उनके पिता श्री हितेशभाई और चाचा भरत भाई तातेड धार्मिक गतिविधियों में हमेशा आगे रहते हैं। मुमुक्षु मन कुमार हजारों किलोमीटर का पैदल प्रवास कर कई जैन तीर्थों की यात्रा कर अब सांसारिक गतिविधियों को छोड़ धर्म के मार्ग पर चल पड़े हैं। करोड़ों रुपए के व्यापार धंधे को छोड़ दीक्षा लेकर मोक्ष की राह पर चल पड़े हैं। दांतराई निवासी श्रीमती बबिबाई मूलचंदजी तातेड़, परिवार के कुलदीपक मुमुक्षुरत्न मन कुमार सुपुत्र गीताबेन हितेश भाई तातेड़ दीक्षा निमिते ठाणे नगर में त्रिदिवसिय प्रभु भक्ति उत्सव हुआ।प्रथम दिन वैशाख सुद८,शुक्रवार, दि.28-04-2023सुबह 8 बजे मुमुक्षुरत्न चि.मन कुमार की वर्षोदान यात्रा निकाली गई।श्री मुनीसुव्रत स्वामी जिनालय खारकरअली से जाभंली नाका, जनता फैशन से तलाव पाली होते हुए गाला विजन ,अग्यारी लाइन होते हुए श्री मुनीसुव्रत स्वामी जिनालय टैंभी नाका पधारें।सुबह10 बजे से ठाणा के सकलसंघ की साधर्मिक भक्ति हुई।स्थल -श्री मुनीसुव्रत स्वामी जिनालय टैंभी नाका।दोपहर २ बजे पत्रिका लेखन हुआ।स्थल- गौतम प्रभावक संघ, खारकर अली, ठाणे था।शाम 7 बजे”पाठशाला को पाया प्रवज्या को अपनाया “पाठशाला के बच्चों द्वारा स्टेज प्रोग्राम हुआ।स्थल- जैन मंदिर, टॅमीनाका, ठाणे था।मंगल नीश्रा -वर्धमान तपोनिधि प.पू. आचार्य भगवंत श्रीमद् विजय कमलरल सूरीश्वरजी म.सा. के शिष्यरत्न अध्यात्मधर्मोंपदेशक प.पू. मुनि राज श्री गणधर रत्न विजयजी म.सा. आदि ठाणा एवं पू साध्वीजी श्री उद्योत दर्शना श्री जी म.सा. आदि ठाणा। त्रिदिवसिय प्रभु भक्ति उत्सव में द्वितीय दिन -शनिवार, दि. 29-04- 23 सुबह 9.00 बजे – शक्रस्तव अभिषेक हुआ। स्वर- श्री हर्षित भाईशाह(भिवंडी ) अभिषेक कार्यकर्ता गिरनारी ग्रुप (विरार) थे।दोपहर 2.00 बजे – रंगोत्सव एवं गांव सांझी हुई।शाम 7.00 बजे – सरस्वती साधक विधविध संगीत रत्नों के साथ संयम सुरावली”मनोरंजन से मनोमंथन”स्वर – श्री देवांशभाई दोशी (CA), श्री पारस भाई गडा, श्री गौतमभाईवारिया थे।संवेदक- श्री राहुल भाई जैन।स्थल- जैन मंदिर, टेंभीनाका, ठाणे था।मुमुक्षुरत्न मनकुमार दीक्षा निमित त्रिदिवसिय प्रभु भक्ति उत्सव में तृतीय दिन रविवार दि.30-04-23 सुबह 1.30 बजे – स्नात्र महोत्सव स्थल जैन मंदिर, टेंभीनाका, ठाणे। शाम 7.30 बजे –  मुमुक्षुरत्न की “मंगल विदाई” हुई।स्वर : श्री जैनमभाई वारिया।संवेदक : श्री विराजभाई शाह (अहमदाबाद)थे।स्थल-ठाणे कोलेज ग्राउंड,सिडको, ठाणे(पश्चिम)था।कार्यक्रम में गुरु भगवंनतो की मंगल नीश्रा -वर्धमाने तपोनिधि प.पू. आचार्य भगवंत श्रीमद् विजय कमल रत्नसुरीश्वरजी म.सा.के शिष्यरत्न अध्यात्म धर्मोंपदेश कप.पू.मुनिराज श्री गणधर रत्नविजयजी म.सा. आदि ठाणा एवं पू साध्वीजी श्री उद्योतदर्शना श्रीजीम.सा आदि ठाणा की रहीं।दिक्षार्थी श्री मनकुमार हितेशभाई तातेड, दांतराई (हाल थाना -मुंबई) निवासी जिनशासन के पथ पर दांतराई, राजस्थान में छप्पनवी दीक्षा परम पूज्य गच्छाधिपति आ.भ. श्रीमद् विजय सोमसुंदर सूरीश्वरजी महाराजा समुदाय में अंगीकार 24 मई 2023 को लेने जा रहे हैं।उनकी अनुमोदना का कार्यक्रम श्रीमान शा नेमीचंद्जी तलसाजी तातेड परिवार के वहा तातेड परिवार संघ, (हैदराबाद सिकंदराबाद) द्वारा दिक्षार्थी का अनुमोदना एवं अभिनंदन किया गया था।संघ के अध्यक्ष विमल कुमार तातेड , महामंत्री अशोक कुमार तातेड, कोषाध्यक्ष पुखराज तातेड, अनिल तातेड, रितेश तातेड, महेंद्र तातेड, तेजपाल तातेड, हितेश तातेड, रुपेश तातेड आदि उपस्थित थे। दि.-22,23,24 मई 2023 दीक्षा महोत्सव प्रसंगे सहपरिवार पधारने हेतु भावभरा आमंत्रण दांतराई निवासी श्रीमती बबिबाई मूलचंदजी तातेड़ द्वारा दिया गया हैं। परिवार के कुल दीपक मुमुक्षु रत्न मन कुमार (सुपुत्र गीताबेन हितेश भाई तातेड़) स्थल – शा. मूलचंदजी अदींगजी तातेड़, गावं -दांतराई – तालुका -रेवदर रेलवे स्टेशन-आबूरोड (राजस्थान) आवास व्यवस्था एवं अन्य जान कारी हेतु संपर्क करे ।अंकित – ९८२१७४८५६६चिंतन – ९८६७८ ७६४७५ ट्रैन मुंबई से आबूरोड -12216 – DEE GARIBRATH,14708 – DDR BKN EXP, 12480 – BDTS JU SPL,22476 -CBE HSR AC EXP, 14702 – ARAVALI EXP हैं। ———————————————————जैन न्यूज़-MBA के बाद की नौकरी, संभाला पिता का कारोबार, अब सब कुछ छोड़ सलोनी बनीं जैन साध्वी-उज्जैन-सलोनी भंडारी को 25 साल की उम्र में नई पहचान मिल गई हैं। श्री मल्लिदर्शना श्रीजी म.सा. के नाम से जानी जाएगी। उसने सभी सुखों को त्यागकर संयम की राह चुनी हैं। 25 साल की सलोनी एमबीए पास हैं और इंदौर स्थित एक कंपनी में जॉब करती थी। पिता उज्जैन में जूलरी के कारोबारी हैं। सलोनी ने परिवार को जब अपना फैसला सुनाया तो लोगों ने सहस्त्र इसे स्वीकार कर लिया। सलोनी भंडारी की दीक्षा पूरी हो गई हैं। उज्जैन में इसके लिए पांच दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। अब उज्जैन की सलोनी भंडारी साध्वी बन गई हैं।दरअसल, उज्जैन के रहने वाले जूलर विमल भंडारी की बेटी सलोनी ने जैन साध्वी की दीक्षा ली हैं। शहर के अरविंद नगर स्थित मनोरमा-महाकाल परिसर में विरती मंडप बना था। यहां पांच दिनों तक कार्यकर्म चला हैं। इसमें जैन समाज के हजारों लोग पहुंचे थे। जैन साध्वी बनने के लिए सलोनी सांसारिक मोह-माया का परित्याग कर दिया हैं। उसने हाथी पर बैठकर सांसारिक वस्तुओं को लुटाई हैं। अब सलोनी का परिवार से कोई नाता रिश्ता नहीं रहेगा।सलोनी भंडारी अभी 25 साल की हैं। मुमुक्षु सलोनी भंडारी बुधवार को सभी रीति-रिवाज से दूर हो गई हैं। संगीत की प्रस्तुति दी हैं। इस दौरान परिवार के लोगों ने सलोनी को विदा किया हैं। ये पल बेहद भावुक करने वाला होता हैं क्योंकि इसके बाद परिवार के लोगों का कोई संबंध सलोनी से नहीं रहेगा। समाज के हजारों लोगों की मौजूदगी में सलोनी ने दीक्षा ग्रहण की हैं।जैन साध्वी बनीं सलोनी ने उज्जैन के एक कॉलेज से एमबीए की पढ़ाई की हैं। इसके बाद सलोनी ने इंदौर में नौकरी की हैं। साथ ही पिता का कारोबार भी संभाला हैं। इसके बाद सलोनी ने सब कुछ छोड़कर जैन साध्वी बनने का फैसला किया। जैन मुनि की दीक्षा ली जो कि बहुत कठिन होता हैं। दीक्षा लेने के बाद संयमित जीवन जीना होता हैं। इसमें भोग-विलास की जिंदगी नहीं होती हैं। साथ ही आजीवन पैदल ही चलना होता हैं।सलोनी करोड़पति पिता की बेटी हैं। घर में ऐशो-आराम की सारी सुविधाएं हैं। छोटी उम्र में सलोनी का सांसारिक जिंदगी से मोहभंग हो गया। परिवार ने भी सलोनी का साथ दिया हैं।दरअसल, दीक्षा पूर्ण होने तक पांच दिनों का कार्यक्रम होता हैं। मंगलवार को विदाई कार्यक्रम था। इसमें अंतिम बार सलोनी भाई की कलाई पर राखी बांधी हैं। वहीं, सलोनी का छोटा भाई काफी भावुक हो गया। वह रोने लगा। वहीं, रिश्तेदारों और परिवार ने सलोनी की संयम जिंदगी की कामना की हैं।———————————-पुणे – श्री गोटीवाला ओसवाल जैन संघ पुणे के इतिहास में स्वर्णिम अध्याय आज श्री नाकोड़ा भैरव जैन धर्मशाला मे लिखा गया।सूरत निवासी श्री मुमुक्ष अनिताबेन की आज भव्य दीक्षा समारोह संपन्न हुआ। संपूर्ण परिवार और पुणे सकल जैन संघ समारोह मे उपस्थित था।मुमुक्ष अनिताबेन प.पु.सा श्री ऋजुप्रज्ञाश्रीजी म.सा की शिष्या हुई। दीक्षादाता- प.पु.पन्यास:प्रवर श्री राजरक्षित विजय जी म.सा आदि ठाणा की निश्रा में हुई।नूतन दीक्षित साध्वि जी भगवंत के नूतन नामकरण नूतन दीक्षित साध्वीजी भगवंत का नूतन नाम श्री अर्हंप्रज्ञाश्रीजी म.सा रखा गया हैं।—————————————————–आंधी-पानी लेकर आएगा साइक्लोन मोचा मुंबई-दिल्ली समेत कई राज्यों में बरसेंगे बादल-नई दिल्ली- अप्रैल और मई में देश में अजीबोगरीब मौसम देखने को मिल रहा हैं।गर्मी के मौसम में लोगों को ठंड का एहसास हो रहा हैं।इस बीच मौसमविभाग (IMD) ने कुछ राज्यों के लिए धूप वाले दिनों और अन्य के लिए भारी बारिश की भविष्यवाणी की हैं। दिल्ली और मुंबई दोनों राजधानी शहरों में आसमान में बादल छाए रहने और मध्यम बारिश होने की संभावना हैं। IMD ने कहा कि ‘8 मई के आसपास बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्व में एक चक्रवाती तूफान बनने की संभावना है.’ चक्रवाती तूफान का नाम मोचा हैं।इससे पश्चिम बंगाल और ओडिशा भी प्रभावित होंगे।IMD के अनुसार रविवार से बुधवार तक अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में भारी बारिशकी संभावना हैं। IMD ने बताया कि चक्रवात के दौरान आसपास के इलाकों में 40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की भी संभावना हैं।एक रिपोर्ट में कहा गया हैं कि हवा की गति भी 70 को पार कर सकती हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि हवा की गति 60-70 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है और 10 मई से 80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने की संभावना हैं।ओडिशा सरकार ने चक्रवाती तूफान के पूर्वानुमान के मद्देनजर 18 तटीय और आसपास के जिलों के कलेक्टरों को किसी भी स्थिति के लिए तैयार रहने को कहा हैं।मौसम कार्यालय ने कहा कि सोमवार को बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में इसके और तेज होने की संभावना हैं। इसके बाद इसके बंगाल की मध्य खाड़ी की ओर लगभग उत्तर की ओर और तेज होने की संभावना हैं।4 मई के अपने पूर्वानुमान में IMD ने कहा था कि मुंबई और महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश होगी और अगले कुछ दिनों में 8 मई तक गरज के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। शुक्रवार को मुंबई का तापमान 28.6 डिग्री सेल्सियस था, जबकि आद्र्रता 70 फीसदी थी। द फ्री प्रेस जर्नल की एक रिपोर्ट में कहा गया हैं कि गर्मी को शांत करने के लिए मुंबई में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे।अगले 24 से 48 घंटों में हल्की बारिश/गरज के साथ छींटे पड़ने की भी संभावना हैं।रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमशः 34 डिग्री सेल्सियस और 26 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना हैं।——————————-ब्रिटेन के किंग चार्ल्स की ताजपोशी-लंदन – शनिवार दि.6-5-23 को किंग चार्ल्स का ऐतिहासिक और भव्य राज्याभिषेक हुआ। लंदन के वेस्टमिंस्टर एबे में एक धार्मिक समारोह में उन्हें यूनाइटेड किंग डम के राजा का ताज पहनाया गया। किंग चार्ल्स का 74 साल की उम्र में राज्याभिषेक हुआ हैं। समारोह में किंग चार्ल्स तृतीय (74 साल) की पत्नी कैमिला भी आधिकारिक रूप से ‘क्वीन कंसोर्ट’ से ‘क्वीन’ बन गई। ताजपोशी की ये परंपरा लगभग एक हजार साल पुरानी है और ब्रिटिश शाही परिवार में 70 साल बाद हुई हैं। इससे पहले 1953 में क्वीन एलिजाबेथ की ताजपोशी हुई थी। लोगों में इसे लेकर काफी उत्साह देखा गया। जिस रास्ते से ब्रिटिश किंग का काफिला गुजरा, वहां हजारों की संख्या में लोग मौजूद थे।राज्याभिषेक में शामिल होने के लिए देश-विदेश के 2 हजार से अधिक मेहमानों को बुलाया गया हैं। भारत की ओर से उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ भी अपनी पत्नी डॉ. सुदेश धनखड़ के साथ लंदन पहुंचे हुए हैं। यहां आने पर उपराष्ट्रपति का बकिंघम पैलेस में आयोजित एक समारोह में स्वागत किया गया। इसके साथ ही उन्होंने लंदन में होने वाले राज्याभिषेक समारोह से पहले किंग चार्ल्स तृतीय से मुलाकात भी की।लंदन का वेस्टमिंस्टर एबे, 1066 में विलियम द कॉन्करर के बाद से हर ब्रिटिश शासक के राज्याभिषेक का स्थान रहा हैं। किंग चार्ल्स और उनकी पत्नी क्वीन कैमिला ने इस भव्य परंपरा का निर्वहन किया। उन्हें जो ताज पहनाया गया, वो 17वीं सदी का सेंट एडवर्ड क्राउन है, जो सॉलिड गोल्ड से बना हुआ हैं। लगभग ढाई किलो वजन का ये मुकुट सिर्फ राज्याभिषेक के दौरान पहना जाता हैं। ये प्रतीकात्मक होता हैं और ताजपोशी के बाद इसे सहेजकर रख दिया जाता हैं।