महाराष्ट्र , कर्नाटक, केरला, गुजरात, मध्यप्रदेश में बाढ़ से मची है भारी तबाही

मुंबई- महाराष्ट्र के पुणे डिविजन के कोल्हापुर, सांगली ,सातारा में बाढ़ ने भारी तबाही मचाई हुई है। अब तक महाराष्ट्र में 30लोगों की मौत हो चुकी है। कोल्हापुर से मुंबई रोज लाखों लीटर दूध की सप्लाई होती है जो पिछले 4 दिनों से बंद है आगे भी हालत सुधरने में 1 सप्ताह भर लगेगा।मुंबई, थाना, नवी मुंबई आदि जगहों पर  दूध की किल्लत हो गई है।सब्जी की  आवक भी कम हो गई है जिससे भाव बढ़ गए हैं। एनडीआरएफ टीम,सेना, और बचाव दल लोगों को बाढ़ से निकालने में मदद कर रहे हैं।अब तक 2.50.000 के आसपास लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है।अभी भी बहुत सी जगहों पर पानी भरा हुआ हैं। पूरा सांगली जैसे समुंदर बन गया है सांगली शहर मैं कहीं पर 15 से 20 फुट तो कहीं पर 40 से 50 फुट तक पानी भरा हुआ है । पेड़ पानी में डूबे हुए हैं लाइट के खंभे पानी में डूबे हुए हैं कहीं पर घरों के दो मंजिल तक पानी भरा हुआ है। आज पांच-छह दिन हो गए हैं बहुत से गांव अभी भी मदद का इंतजार कर रहे हैं। कृष्णा नदी पूरे उफान पर है ।

रेलवे ने मुंबई- पुणे चलने वाली सभी एक्सप्रेस गाड़ियों को 16 अगस्त तक बंद किया है जैसे इंटरसिटी ,डेक्कन आदि गाड़ियों की आवाजाही 16 अगस्त तक बंद की गई है। जिससे बसों में भारी भीड़ देखी जा रही है।

पश्चिम महाराष्ट्र में आई भयावह बाढ़ से महाराष्ट्र के 329 गांवों पर बहुत बुरा असर पड़ा है। करीब एक लाख हेक्टेयर खेती बर्बाद हो गई है। कोल्हापुर, सांगली, सातारा आदि जगह पर बाढ़ आई है। बचाव कार्य में एनडीआरएफ की कुल 21 टीमें लगी हुई है। कोल्हापुर में डोनियर एयरक्राफ्ट से लोगों को शिफ्ट किया गया बाढ़ प्रभावित इलाकों में स्वास्थ्य विभाग की 70 टीमें तैनात की गई है। राज्य के मुख्य सचिव अजोय मेहता ने 2,52,813 लोगों को बाढ़ से बचाने का दावा किया है। बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए सरकार ने 154 करोड रुपए का आवंटन किया है। पिछले महीने 1 जून से बारिश और बाढ़ की वजह से राज्य में अब तक 144 लोगों की मौत हो चुकी है एक लाख हेक्टेयर खेती बर्बाद हो चुकी है।329 गांवों पर बाढ़ का असर दिख रहा है।कुल 1007 मिलीमीटर बारिश हुई 2 दिन पहले बचाव कार्य के दौरान नाव पलटी होने से सांगली में 11 लोगों की मौत हो चुकी थी । सांगली जिले में घरों की छतों पर फंसे लोगों के लिए हेलीकॉप्टर से राहत सामग्री गिराई गई रात नौसेना के 12 बचाव दलों को भेजा गया है। नासिक और नंदुरबार में भी बाढ़ आई है ।
कर्नाटक अलमाटी बांध से अब तक 4.30 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा है। जिससे महाराष्ट्र के कोल्हापुर और सांगली जिलों में बाढ़ की स्थिति में सुधार होने की उम्मीद है। कर्नाटक में बाढ़ से तबाही का नजारा दिख रहा है हुबली,बेलगाम, धारवाड़ आदि जगहों पर बाढ़ नें हाहाकार मचाया हुआ है। कर्नाटक में अब तक 72 लोगों की जान चली गई है। राहत शिविरों में 80,000 से ज्यादा लोग पहुंचाए गए हैं।यातायात बंद है। केरल में राज्य के 14 जिलों में रेड अलर्ट जारी है भारी बारिश और नदियां उफान पर हैं। अब तक केरल में 42 लोगों की मौत हो चुकी है। बांधों को खोलना पड़ा है जिससे कई गांव बह गए कोची एयरपोर्ट में पानी भरने के कारण उड़ानों को रोका गया। गुजरात में भी भारी बारिश हो रही है। अब तक 8 लोगों की मौत हो चुकी है। नडियाद में एक मकान बारिश केेेे कारण गिर गया जिसमें 4 लोगों की मौत हो गई ।अहमदाबाद शहर पूरी तरह से जलमग्न हो गया है। नर्मदा नदी पूरी तरह से उफान पर है राजकोट में भी बाढ़ आई हुई है। मध्यप्रदेश में भोपाल का डैम पूरा भरने से उसके दरवाजे खोले गए हैं जिससे बाढ़ की स्थिति बनी हुई है।