ठाणे में वर्षितप,जैन न्यूज़, नक्सली हमला

ठाणे -पूज्य आचार्य श्री विजय प्रेम भुवन भानु सूरी महाराजा के समुदाय के पुण्य प्रभावी हेमतेज तेजस्व प्रवचनकार प.पू. आचार्य श्री विजयअक्षय बोधि सुरीश्वरजी म.सा.एंव प.पू. आचार्य देव श्रीमद् विजय मुक्ति वल्लभ सुरीश्वरजी म.सा. आदि विशाल संख्या में गुरु भगवंतो का ठाणे में रविवार दिनांक 23-4-2023 को सुबह 8:30 बजे धूमधाम से रेमंड ग्राउंड में प्रवेश हुआ।व 550 से ज्यादा वर्षीतप के तपस्वियों का बहूमान हुआ। थाने के रेमंड ग्राउंड वर्तक नगर में वर्षी तप के तपस्वी की पालना करने की व्यवस्था थी। हजारों लोगों की भीड़ के कारण व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई थी। खाने की भी व्यवस्था वहीं पर थी।सभी तपस्वियों को श्री संघ की तरफ से दिनांक 22- 4 – 2023 को वरघोड़े के पश्चात सभी तपस्वीयो का जो बहूमान होने वाला था ।
वह सभी बहूमान दिनांक 23 -4 – 2023 को रेमंड कंपनी / एरोप्लेन ग्राउंड में हुआ।१) पग प्रक्षालन,२) सोना रूपा पुष्प बधामणा,३) तिलक ४)माला५) श्रीफल,६) साफा ७) चुनरी८) गिफ्ट आइटम९) स्वर्ण मुद्रा,१०) श्री संघ की ओर से सामूहिक प्रभावना यह सभी बहुमान दिनांक 23 -4- 2023 को हुएं। जिसकी वजह से पालने की शुरुआत सुबह 11 बजे के बाद हुई। जिससे भीड 11 से 1बजे के बीच काफी बढ़ गई थी।
श्री हस्तिनापुर नगरी का उद्घाटन,श्री भरत चक्रवर्ती नगरी दोनों नगरी के उद्घाटन सुबह  9 बजे रेमंड कंपनी, एरोप्लेन ग्राउंड, ठाणे में हुआ। ज्ञात हो कि जैन मंदिर टैंभी नाका ठाणे में प्रवचनकार पूज्य आचार्य श्री विजय प्रेम भुवनभानुसूरी महाराजा के समुदाय के पुण्य प्रभावी हेमतेज तेजस्व प्रवचनकार प.पू. आचार्य श्री विजय अक्षय बोधि सुरीश्वर जी महाराज एवं तपस्वी रत्ना पूज्य साध्वी रत्ना कीर्ति श्री जी महाराज साहेब की पावन निश्रा में करीब 550 वर्षीतप के तपस्वीयों ने विस स्थानक पूजन19-4-23बुधवार को वर्षीतप पारणोत्सव पर आयोजित विस स्थानक पूजन में स्नात्रपूजा 8.30 बजे और पूजन ठीक 9 बजे शुरू हुआ।सभी लाभार्थी ठीक समय पर पहुंच गए।पूजन स्थल :–भुवमभानु नगरी ,गौतम सागर , दिवेचा कंपाउंड , चरई यहीं 21-4- 23 को सुबह पट पूजन शत्रुंजय भाव यात्रा रखी गई थी। साथ में पाल की व्यवस्था की गई थी। दिनांक 22- 4- 2023 को तपस्वियों का भव्य वरघोड़ा सुबह जैन मंदिर टैंभी नाका से निकाला गया। जो ठाणे शहर में घूम कर वापस जैन मंदिर में आकर गुरु भगवतों के प्रवचन के साथ समापन हुआ।ईस वरघोड़े, शोभायात्रा में बैंड,रथ,बहुत सी घोड़ा बग्गी और विंटेज कारें (पुराने जमाने की कारें)थी। बसें भी रखी गई थी। हजारों लोग इस शोभायात्रा में शामिल हुए थे। गुरु भगवंनतो ने सुबह 8 बजे वरघोड़े की शुरुआत करा दी थी क्योंकि गर्मी बहुत थी। परम पूज्य आचार्य श्री विजय अक्षय बोधि सुरीश्वर जी म.सा. एवं मुनि विश्वानंदजी म.सा. के साथ अनेक साधु- साध्वी वरघोड़े में शामिल हुए। वर्षीतप के तपस्वीयों का आनंद उफान पर था।12 महीने से ज्यादा की तपस्या की पूर्णाहुति होता देख बहुत ही खुश थे। 22-4-2023 रात्रि को आदिनाथ दादा की भव्य आरती की गई। 23-4- 2023 को सुबह 6:30 बजे से भगवान आदिनाथजी का ईसु(गन्ने) के रस से वर्षीतप के तपस्वीयों और दूसरे लोगों ने पक्षाल कराया । 12 महीने से ज्यादा तपस्या करने वालों की मंडल के कार्यकर्ताओं ने देखभाल की थी। मंडलो के कार्यकर्ताओं की बहुत बहुत अनुमोदना करनी चाहिए। उन्होंने बहुत ही सुंदर व्यवस्था की थी। तपस्वीओं का शाल द्वारा बहूमान , पूजन में प्रभावना एवं स्वर्ण अलंकार लकी ड्रॉ के लाभार्थी व पारणा स्थल श्री हस्तिनापुर नगरी के उद्घाटन के लाभार्थी परिवार मातु श्री शशीबेन महेशचंद्रजी बाफना, सौ.दीपिका भरतजी बाफना ठाणे, सिरोही(राज.) निवासी थे।व्यवस्था-मंगल घर समिति (श्री राजस्थान श्वेताम्बर मूर्तिपूजक जैन संघ, थाने) ने देखी । 12 महीने से ज्यादा तपस्वियों के लिए सुंदर व्यवस्था की गई थी। टैंभी नाका जैन मंदिर को सजाया गया था।सभी कार्यक्रमों के आयोजक- व निवेदक-श्री राजस्थान श्वेतांबर मूर्तिपूजक जैन संघ ठाणा,श्री ऋषभदेव जी महाराज जैन धर्म टेंपल व ज्ञाती ट्रस्ट ठाणे के द्वारा भाव भरा आमंत्रण दिया गया था।——————————-जैन न्यूज़-आचार्य श्री विजय प्रभाकर सुरीश्वरजी म.साहब का महामांगलिक 21 अप्रैल को विरार में-अहमदाबाद-परम पूज्य आचार्य देव श्री विजय प्रभाकर सुरीश्वरजी म.सा. एवं उनके शिष्य रत्न पूज्य मुनि प्रवर श्री महापद्मा विजयजी म.सा., मुनि श्री पद्मा विजयजी म.सा आदि ठाणा ने पालीताणा में बहुत ही ऐतिहासिक चातुर्मास पूर्ण कर।विहारयात्रा,संदेश – अहमदाबाद महासुखनगर जैन संघ की की भावपूर्ण विनंती से 25-3- 2023 को समकीत सम्राट परम पूज्य आचार्य श्री विजय प्रभाकर सुरीश्वरजी महाराज साहेब आदि ठाणा के आगमन पर श्रीसंघ एवं कांकरेजी समाज द्वारा भव्य स्वागत और सामैया हुआ। पधारे हुए श्री सकल संघ की नवकारसी और संघ पुजन हुआ। पूज्य आचार्य भगवनंतो के सर्वप्रथम आगमन से श्री संघ में आनंद एवं उल्लास वातावरण छा गया। गुरुभंगवतो का रविवार ता. 26-3- 2023 को दिव्य जीवन रेसिडेंसी निकोल श्री सीमंधर स्वामी जैन संघ में आगमन हुआ। उल्लास पूर्वक स्वागत सामैया हुआ। ता. 27-3 -2023 को सुबह श्रीमती अलका बहन ललितभाई भोटाणी की आग्रह भरी विनंती से उनके निवास स्थान पर सकल संघ के साथ सुप्रसिद्ध बाबू बैंड हिम्मत नगर के साथ वाजते-गाजते पहुंचे। मंगलाचरण तथा संघ पूजन हुआ। निकोल संघ गुरु भगवंतो के दर्शन करने आया था।अहमदाबाद राजनगर विविध जैनसंघो में पधारकर ,चैत्रशुद 5 को ता,26/3/ 2023 मुंबई की तरफ विहार यात्रा का प्रारंभ किया।वडोदरा,भरुच,अंकलेश्वर , कामरेज ,बलेश्वर सहित कई स्थलों पर विहार करते हुए ता. 12/4/2023 को आलीपुरतीर्थ पधारे।आगे वलसाड,उदवाडा, नंदिगाम, महाविरधाम,विरार,अगासीतीर्थ की तरफ विहार हूआ।
दिनांक18-4-2023 को अहमदाबाद मुंबई नेशनल हाईवे नंबर 8,चारोटी और सोमटा के बीच पर विहार यात्रा करते हुए दो बड़े दिग्गज जैन आचार्य का स्नेह पूर्ण मिलन हुआ। समकीत सम्राट पूज्य आचार्य श्री विजय प्रभाकर सुरीश्वरजी महाराज और भारत गौरव पूज्य आचार्य श्री पुलक सागरजी महाराज दोनो आचार्य श्री ने वर्तमान समस्या निवारण और एकता के बारे में चर्चा की। आनंदमय वातावरण में दोनों आचार्यजी ने जैन संघ समाज को एक ही संदेश दिया आइए हम सब एक थे। महावीर के संतान हैं। अब एक हो जाओ एक बने रहो जय हो।21-4-2023 को श्री शंखेश्वर पार्शवनाथ जैन मंदिर,नेमी अमृत विहार,विरार में समकीत सम्राट परम पूज्य आचार्य श्री विजय प्रभाकर सुरीश्वरजी महाराज आदि ठाणा का आगमन पर संघ की ओर से भव्य सामैया स्वागत हुआ। वैशाख शुद 1 ता. 21/4/2023 बेसते महिने का महामांगलिक शंखेश्वरम् बोलिंज विरार संघ में आयोजित हुआ।वैशाख शुद 5 ता.25/4/2023 को अगाशी तीर्थ सभी मंदिरो में 18/अठ्ठारह अभिषेक का महाविधान हुआ।वैशाख शुद 6ता.26/4/2023को सभी मदिंरो की 4 मूख्य ध्वजा के साथ कुल 52 ध्वजा रोपण हुआ। सैकड़ों लोग इस कार्यक्रम में शामिल हुए। 30-4-2023 को विरार से आगाशी तीर्थ का पैदल यात्रा संघ का भव्य आयोजन हुआ हैं।विनीत-श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ जैन ट्रस्ट, एवं दक्षक्रुपा परिवार थे।—————————————-14 वर्षीय मुमुक्षु का निधन-मुमुक्षु रीवा बेन (उम्र 14 साल) का अपघात में निधन हो गया।
कर्मोदय ने बचपन में ही अपने पूज्य पिता श्रीजी को खो दिया।संसार के संबंध में केवल माताजी का ही सानिध्य मिला।पुण्योदस से पिछले डेढ़ साल से पू. हित- श्रुत दर्शिता श्रीजी म.सा. की छत्रछाया में संयम के जीवन का प्रशिक्षण लेकर संसार को त्यागने और संयम को स्वीकार करने की तैयारी कर रहे थे।प्रभु के पंथ में जाने की आशा में दिन-रात झूमती रहने वाली रीवाबेन पूज्य साध्वीजी भगवंत को लेकर भाभर की ओर विहार करने निकलीं।16/4/23 को चैत्र वद 11 के दिन विरोचन नगर, गंतव्य संप्रति शणगार धाम पहुंचे। भगवान की अंगपूजा भक्ति की। अग्रपूजा कर रहे थे। दीप पूजा के दौरान कहीं कोई भूल हो गई। अचानक दीये के जाल में कपड़े फंस गए असंभव समय में शरीर का 85 / 90 फीसदी हिस्सा जल गया। अन्य मुमुक्षुओं को बचाव करने आते देख उसने सबको दूर रहने को कहा क्यों कि तुम मुझे बचाने की कोशिश में जल जाओगे।साथि मुमुक्षुओने उसे बचाने की बहुत कोशिश की।अध्यात्म परिवार के सक्रिय सदस्यों ने पूरी कोशिश की।अहमदाबाद राजस्थान अस्पताल में भर्ती कराया गया।डॉक्टरों ने दिन-रात मेहनत की लेकिन कर्मसत्ता को कुछ और ही मंजूर था।——————————————-छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सली हमला-दंतेवाड़ा- छत्तीसगढ़ के घुर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में बड़ा हादसा पेश आया हैं। यहां नक्सलियों ने गश्त से लौट रहे जवानों के वाहनों को विस्फोट से उड़ा दिया। इस हमले में सुरक्षा बलों के 11 जवान शहीद हो गए, जबकि कुछ जवान घायल भी हुए हैं। पुलिस से मिली जानकारी के अऩुसार जिले के अरनपुर क्षेत्र में गश्त से लौट रहे सुरक्षाबलों के जवान आज दोपहर लौट रहे थे कि उनके वाहन को नक्सलियों ने आई डी ब्लास्ट कर उड़ा दिया जिससे वाहन के चालक समेत 11 जवान मौके पर ही शहीद हो गए। कुछ जवानों के घायल होने की भी सूचना हैं।घटना की सूचना मिलने के बाद सुरक्षाबलों को एम्बुलेंस के साथ घटनास्थल की ओर रवाना कर दिया गया हैं। घटनास्थल जिला मुख्यालय से लगभग 50 किमी दूर घटना जंगली क्षेत्र बताया गया हैं। राज्य में लंबे समय बाद नक्सलियों के हमले में इतनी बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों के जवान शहीद हुए हैं।घटना की सूचना मिलने के बाद सुरक्षाबलों को एम्बुलेंस के साथ घटनास्थल की ओर रवाना कर दिया गया हैं। घटनास्थल जिला मुख्यालय से लगभग 50 किमी दूर घटना जंगली क्षेत्र बताया गया हैं।6-7 जवानों के घायल होने की भी सूचना हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच अभी भी मुठभेड़ जारी हैं।बताया जा रहा हैं कि नक्सलियों की मुखबिरी की वजह से ही नक्सलियों ने ब्लास्ट किया हैं। शहीद हुए सभी जवान डीआरजी के हैं। डीआरजी के जवान सर्चिंग पर निकले थे। कल बुधवार को बारिश होने की वजह से वो फंसे हुए थे। डीआरजी की टीम फंसे जवानों को लेने प्राइवेट वाहन से जा रही थी।सीएम भूपेश बघेल ने पूरे मामले पर अपनी संवेदना व्यक्त की हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि नक्सलियों के खिलाफ जो लड़ाई लड़ी जा रही है, वह अंतिम दौर में चल रही हैं। इसी की हताशा में वे इस तरह की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। नक्सलियों को किसी सूरत में नहीं छोड़ा जाएगा। योजनाबद्ध तरीके से रणनीति बनाकर नक्सलवाद को समाप्त करेंगे।केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी घटना पर दुख जताया हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया हैं।