महावीर जन्म कल्याणक,जैन न्यूज़,चोर गिरफ्तार

ठाणे – श्री महावीर स्वामी भगवान जन्म कल्याणक महोत्सव धूमधाम से आज पूरे देश और विदेशों में मनाया गया। आज पूरे देश में 4अप्रैल मंगलवार 2023 को शोभा यात्रा, रथयात्रा निकाली गई। ठाणे में टैंभी नाका जैन मंदिर से शोभायात्रा निकाली गई। ठाणे के सभी जैन संघों की एक साथ रथ यात्रा निकाली गई। भगवान का रथ, भगवान की पालकी, भगवान महावीर जी फोटो के साथ बग्गी, वल्लभ बैंड, बालिकाओं का बैंड, बालकों का बैंड और कई महिला मंडल बेड़ों के साथ सज धज कर इस यात्रा में शामिल हुई। कई ट्रकों में भगवान महावीर की झांकियां की रचना की गई।शोभायात्रा में प.पु.आ. श्री प्रेम भुवनभानु सूरी समुदाय के मुनिराज श्री विश्वानंद विजयजी म.सा., मुनि यशोवलभ विजयजी म.सा.की पावन निश्रा रही। जैन मंदिर के ट्रस्टी व जैन धर्मिय हजारों लोगों की भीड़ इस यात्रा में शामिल हुई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री एकनाथजी शिंदे, श्री. संजयजी केळकर आमदार – ठाणे शहर विधानसभा,अ‍ॅड. निरंजनजी डावखरे आमदार/अध्यक्ष – भाजपा ठाणे शहर जिल्हा व संदीप लेले व अन्य कई मान्यवरों नेअपनी उपस्थिति दर्ज कराई। शोभायात्रा के दरमियान जैन मंदिर के चारों तरफ भगवान महावीर के जय जयकारों से आसमान गूंज रहा था। भगवान श्री महावीर स्वामी के 2622 वे जन्म कल्याणक निमित्त ठाणे नगरी में सभी जैन संघों की साथ में शोभा यात्रा निकाली गई।श्री राजस्थान श्वेतांबर मूर्तिपूजक जैन संघ, ठाणा,श्री ऋषभदेवजी महाराज जैन धर्म टेंपल एण्ड ज्ञाती ट्रस्ट, ठाणा भगवान श्री महावीर स्वामी जन्म कल्याणक महोत्सव निमित्त मंगलवार दिनांक 4 -4 -2023 को ठीक 9:30 बजे शोभायात्रा जैन मंदिर से रवाना हुई। श्री आदिनाथ जैन ग्रुप ठाणे द्वारा श्री भगवान महावीर की पालकी की व्यवस्था की गई थी।जिसे पूजा के कपड़ों में लोगों ने भगवान की पालकी उठाई व दर्शन किए। शोभायात्रा में सायकल पर बालिकाएं व बाइक पर महिलाएं शामिल थी। ठाणे के सभी जैन व्यापारियों ने अपनी दुकानें बंद रखी थी। शोभा यात्रा के बाद 12-2 बजे तक भोजन की व्यवस्था शिवाजी मैदान तलावपाली पर रखी गई थी। मुंबई ठाणे पुणे भायंदर सभी जगह धूमधाम से महावीर जन्म कल्याणक मनाया गया।जानिए महावीर जन्म कल्याणक का इतिहास और महत्व – अहिंसा, सत्य, अपरिग्रह, अचौर्य (अस्तेय) जैसे अनमोल विचार देने वाले भगवान महावीर की जन्म कल्याणक 4 अप्रैल 2023 मंगलवार को मनाया गया। जैन धर्म के लोग चैत्र सुद तेरस को महावीर जन्म कल्याणक का पर्व भगवान महावीर के जन्म के अवसर पर मनाते हैं। जैन धर्म के 24 वें तीर्थंकर की प्रेममयी स्मृति में दुनिया भर में जैन धर्म का अनुसरण करने वाले लोग इस दिन को बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। भगवान महावीर जैन धर्म के अंतिम आध्या त्मिक गुरु थे। ग्रेगोरियो कैलेंडर के अनुसार, महावीर जन्म कल्याणक मार्च या अप्रैल के महीने में मनाई जाती हैं। इस बार भगवान महावीर जन्म कल्याणक 4 अप्रैल को मनाया जा रहा हैं।जैन धर्म के 24 वे तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का सोमवार और मंगलवार 3 अप्रैल और 4 अप्रैल देशभर में 2622 वां जन्म कल्याणक महोत्सव मनाया गया। देश के सभी शहरों में शोभा यात्रा निकाली गई वहीं जैन मंदिरों में मस्तकाभिषेक व अष्टद्रव्य से पूजा अर्चना की गई।राजस्थान के जयपुर अजमेर बाड़मेर नागौर सवाई माधोपुर दौसा आदि शहरों में भव्य आयोजन हुए। जैन समाज के लोगों ने बड़ी संख्या में इस में भाग लिया। जयपुर में सोमवार को भगवान महावीर शहर भ्रमण पर निकले। इस दौरान बड़ी संख्या में जैन समाज के लोग भी थे। वही अजमेर में सोने के रथ में भगवान महावीर को विराजमान किया गया। बाड़मेर में भी महावीर जयंती पर विशेष आयोजन हुए। यहां जैन समाज के 22 मीटर लंबे झंडे को शामिल किया गया।इसे करीब 60 महिलाएं शोभायात्रा में संभाले चल रही थी। सामाजिक, धार्मिक, व्यापारी संगठनों ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। शोभायात्रा में समाज का हर आयु वर्ग का सदस्य शामिल हुआ। पुरुषों ने सफेद रंग के कुर्ता-पायजामा श्वेत वस्त्र व महिलाओं ने केसरिया लाल परिधान पहन कर भाग लिया। अजमेर शहर में महावीर जयंती पर निकली शोभायात्रा में 50 से ज्यादा झांकियां शामिल थी। जैसलमेर में निकली शोभायात्रा में जैन समाज के संत और जैन समाज के बड़ी संख्या में लोग शामिल थे।————-ठाणे तीर्थ में ओलीजी प्रसंगे साध्वीजी भगवंतों का मंगल प्रवेश हुआ-ठाणे – वर्ष में दो बार आने वाली ओली तपस्या 9 दिन की होती हैं। जिसमें एक टाइम बिना घी, तेल, मसाला, सुखा, उबला,भुना हुआ खाना खाना होता हैं। देश विदेश में जैन के कई लोग यह तप करते हैं। ठाणे तीर्थ में ओलीजी प्रसंगे साध्वीजी भगवंतों का मंगल प्रवेश हुआ-सौधर्म बृहत्तपोगच्छीय गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद् जयानन्दसूरीश्वरजी म.सा.की आज्ञानुवर्तिनी विदुषी गुरुवर्या साध्वीजी श्री मणिप्रभा श्रीजी आदि ठाणा २० का 28-3-2023 प्रात: 7 बजे भव्य सामैय्ये के साथ शाश्वती नवपदजी ओलीजी में निश्रा प्रदान करने हेतु मंगल प्रवेश हुआ।पूज्य साध्वीजी भगवन्तों के साथ साध्वीजी निर्मोहयशा श्री जी एवं निःसंग यशाश्रीजी (थाने संघ की बहु भावना संघवी एवं बेटी देशना संघवी)भी दीक्षा जीवन ग्रहण करने के बाद पहली बार थाने नगर में पधारे हैं। पूज्य साध्वीजी भगवन्त ने प्रवचन में जिन शासन की महत्ता बताते हुए शाश्वती नवपदजी ओली में भाग लेने की प्रेरणा दी।अनंत तीर्थंकरों ने अनंत बार शाश्वती ओली (अठ्ठाई) के बारे में कहा हैं , साल में 2 बार आने वाली अनाशवंत ऐसी शक्ति , ऊर्जा , ओरा का पर्व यानी महा मांगलिक आयंबिल की नवपद ओली। ऐतिहासिक नगर जिसका वर्णन श्रीपाल रास में आता हैं ऐसा देव विमान तुल्य कोंकण शत्रुंजय स्वरूप श्री मुनिसुव्रत स्वामी नवपद जिनालय विदुषी गुरुवर्या पूज्य साध्वीजी श्री मणिप्रभा श्रीजी म.सा.आदि ठाणा श्री संघ में नवपदजी शाश्वती ओलीजी में निश्रा प्रदान कर रहे , महा मंगलकारी आयंबिल की ओली श्रीसंघ (श्री राजस्थान श्वेताम्बर मूर्तिपूजक जैन संघ, थाने )में 500 के करीब हो रही हैं। ओली चैत्र सूद 8 बुधवार 29/3/23 से शुरू होकर 6-4 2023 को पूरी होगी। 9 दिन की पुलिस तपस्या का 7-4 -2023 को ओली के पालने होगे। शाश्वती ओली का लाभ धाणसा/ठाणे निवासी श्रीमती रंभादेवी नगराजजी तोलाजी मुथा परिवार ने लिया हैं।पूज्य साध्वीजी भगवंतों की निश्रा में श्री राजस्थान मू.पू. जैन संघ- ठाणे द्वारा ८ मई से १५ मई तक युवतियों की शिविर का आयोजन किया गया हैं।—————–श्री विराग सागर जी महाराज बांद्रा में-मुंबई-क्रांतिकारी गुरुदेव पूज्य व्यास परिवार श्री विराग सागर जी महाराज आदि ठाणा दो एवं बांद्रा संघ के अनंत उपकारी गुरु मां पूज्य साध्वी जी सिद्धि पूर्णा श्रीजी महाराज (बा. म.सा.) आदि ठाणा 16 का 17 महीनों के बाद इतिहास सर्जक मिलन होगा। बा महाराज आदि ठाणा 16-17 महीनों में मुंबई बांद्रा से राजस्थान शिवगंज समस्त राजस्थान घूम कर पालीताणा की यात्रा करके गुजरात से रायगढ़ अलीबाग होकर करीब 300 किलोमीटर का उद्योग विहार कर कर पुनः बांद्रा संघ में पधारे है। 24 मार्च 2023 शुक्रवार को 17 महीने के बाद श्री संभावनाथ जैन संघ बांद्रा (वेस्ट) में सांसारिक मां बेटे का अद्भुत मिलन हुआ। इसके पहले 19 मार्च रविवार को पूज्य पन्यास प्रवर श्री विराग सागरजी म.सा. का श्री ठाकुरद्वारा जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ में जोरदार स्वागत हुआ। क्रांतिकारी गुरुदेव श्री विराग सागरजी महाराज के 48 वें जन्म दिन निम्मीत सुबह 9:00 बजे विशेष व्याख्यान, भक्ति, प्रभावना हुईं। इस प्रसंग पर संगीत के साथ जबरदस्त शत्रुंजय रक्षा प्रोजेक्टर शो का आयोजन भी हुआ। प्रवचन स्थल- श्री आदेश्वर भवन सीपी टैंक सर्कल के पास मुंबई था।—————- ————–झपटमार गिरफ्तार-कल्याण-पिछले साल से ठाणे, कल्याण, डोंबिवली, भिवंडी इलाके में सड़क पर चलने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है, जो महिलाओं के गले से सोने का मंगलसूत्र और सोने की चेन झपट कर भाग जाते हैं।लूट की इन घटनाओं में कल्याण क्राइम ब्रांच की पुलिस ने सोमवार को टिटवाला के पास बनेली गांव इलाके से चार लोगों को गिरफ्तार किया हैं। पुलिस ने इनके पास से 5 लाख 15 हजार रुपए कीमत का सोना-चांदी जब्त किया ।चारों लुटेरे अंबिवली में ईरानी बस्ती के रहने वाले हैं।वे सराय वाले हैं। उसके खिलाफ कई थानों में मामले दर्ज हैं। आरोपियों के नाम सलमान उर्फ ​​राजकूप असदल्ला ईरानी (23), हसन अजीज सैयद (24), सावर रजा सैयद ईरानी (35), मस्तान अली दुदान अली ईरानी (46) हैं। डोंबिवली थाना क्षेत्र के कल्याण में हर दिन दोपहिया चोरों के गले से एक-दो राहगीरों का सोना लूट लिया जाता हैं। इन घटनाओं की शिकायत कल्याण क्षेत्र के विभिन्न थानों में की गई हैं।मंगलसूत्र चोरी होने से महिलाओं में भारी आक्रोश हैं। इन महिलाओं का सवाल था कि जब दिनदहाड़े चोरी हो रही हो तो क्या पुलिस कुछ करती हैं। लूट की इन सभी घटनाओं की जांच कल्याण क्राइम ब्रांच स्थानीय पुलिस के साथ कर रही थी।कल्याण अपराध शाखा के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक किशोर शिरसाट को एक गुप्त सूचना मिली कि ठाणे जिले के विभिन्न हिस्सों में लूट में शामिल कुछ व्यक्ति टिटवाला के पास बनेली गांव में आ रहे हैं। सब इंस्पेक्टर मोहन कलामकर, कांस्टेबल संजय माली, बालाजी शिंदे, गुरुनाथ जर्ग, प्रशांत वानखेड़े, विलास कडू, प्रवीण बागुल, अनूप कामत, बापूराव जाधव, मेघा जेन, मंगला गावित, गोरखनाथ पोटे, अमोल बोरकर, उल्हास खंदारे, विश्वास के मार्गदर्शन में सीनियर इंस्पेक्टर शिरसाट माने, उमेश जाधव, विनोद चन्ने की टीम ने गांव की सीमा में जाल बिछाया।तय समय पर दो-दो की टोली ने चार-चार लोग बनाकर सीमा में घूमना शुरू कर दिया। वे एक दूसरे को चेतावनी दे रहे थे। जाल बिछा चुकी पुलिस उनकी स्थिति से वाकिफ थी। सादी वर्दी में एक सिपाही ने एक आरोपी को हटाया। उसने विरोधाभासी जवाब दिया और भागने की कोशिश की। यह आश्वस्त होने के बाद कि यह आरोपी है, टीम ने चारों को घेर लिया और गिरफ्तार कर लिया।आरोपियों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, उन्होंने वरिष्ठ निरीक्षक शिरसाट के सामने कबूल किया कि उन्होंने छह सोने की चेन चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया है, जिनमें दो कल्याण के महात्मा फुले थाना क्षेत्र में, दो बाजार क्षेत्र में, एक डोंबिवली के तिलकनगर सीमा में, एक कापूरबावडी पुलिस थाना क्षेत्र में हैं। थाना और एक राबोडी पुलिस थाने की सीमा में। पुलिस ने इनके पास से 5 लाख 15 हजार रुपये बरामद किए हैं।