क्रिमिनल लॉ बिल पास, मोदी नंबर वन, ठाणे पुलिस आयुक्त,जैन न्यूज़

नई दिल्ली- नए क्रिमिनल लॉ वाले तीनों बिल राज्यसभा से भी पास हो गए। राष्ट्रपति की मुहर लगने के साथ ही कानून अमल में आ जाएगा। मौजूदा IPC, CrPC और इंडियन एविडेंस एक्ट की जगह नए तीनों कानून भारतीय न्याय संहिता, भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता और भारतीय साक्ष्य अधिनियम होंगे। ऐसे में अहम सवाल यह हैं कि मौजूदा कानून के तहत दर्ज केस जो पेंडिंग हैं उस पर क्या असर होगा? क्या नए कानून सिर्फ नए मामले में लागू होंगे?क्या अदाल तों में दोनों ही मामले साथ चलेंगे?1. नए कानून के नोटिफिकेशन के बाद क्या होगा?सुप्रीम कोर्ट के एडवोकेट विराग गुप्ता बताते हैं, नए क्रिमिनल लॉ लागू होने की जो भी तारीख होगी उस तारीख से जब अपराध होगा तो वह नए कानून में दर्ज किया जाएगा। उसी के हिसाब से मुकदमा चलेगा और सजा होगी। इसका मतलब है कि IPC, CrPC और एविडेंस एक्ट का नए मामले में असर नहीं होगा।2.दर्ज FIR और पेंडिंग केसों पर क्या होगा असर पहले से जो केस दर्ज हैं उसमें पहले के कानून के तहत ही चार्जशीट दाखिल की जाएगी और पहले के कानून के तहत ही उसमें मुकदमा चलेगा। जो केस अदालतों में पेंडिंग हैं उन केसों की सुनवाई पहले की तरह चलती रहेगी। उन पर असर नहीं होगा।3. पुलिस के सामने क्या होगी चुनौती?सीनियर क्रिमिनल लॉयर रमेश गुप्ता बताते हैं कि अभी तक पुलिस को IPC, CrPC और इंडियन एविडेंस एक्ट के बारे में ट्रेनिंग दी जाती रही हैं। जब नया कानून लागू होगा तो पुलिस को नए कानून के बारे में ट्रेनिंग देनी होगी।पुलिस की ड्यूटी बढ़ जाएगी क्योंकि पुराने कानून के तहत उन्हें केसों की पैरवी करनी होगी और पुराने FIR में पहले के नियम के तहत आगे कार्रवाई करनी होगी। नए केस में नए कानून के तहत कार्रवाई करनी होगी और FIR से लेकर चार्जशीट दोनों ही में नए प्रावधान पर अमल करना होगा। हालांकि, धाराएं बदल गई हैं पर उसका कंटेंट वही हैं। ऐसे में पुलिस को नए सिरे से धाराओं को याद करना होगा।4. क्या वकालत में नई चुनौती होगी?दिल्ली बार काउंसिल के चेयरमैन और सीनियर एडवोकेट के. के. मनन बताते हैं कि वकील जो अभी तक IPC, CrPC या इंडियन एविडेंस एक्ट पढ़कर प्रैक्टिस करते रहे हैं उन्हें अब नए कानून को भी याद करना होगा। नए मामले में नए कानून के तहत कार्रवाई होगी और जब मामला अदालत में आएगा तो वकील को उसे नए कानून के दायरे में दलील देनी होगी। इस तरह देखा जाए तो वकीलों को दोनों पाठ पढ़ना होगा। जो अभी लॉ कर रहे हैं वे जब पढ़कर निकलेंगे तो दोनों ही कानून यानी पुराने और नए कानून के बारे में उन्हें बराबर जानकारी रखनी होगी।5. अदालतो में क्या होगा-सीनियर एडवोकेट रमेश गुप्ता कहते हैं कि निश्चित तौर पर पुलिस और वकील के साथ-साथ अदालत में जजों को दोनों तरह के कानून से संबंधित मामलों को देखना होगा। यह हो सकता है कि एक केस नए मामलों से संबंधित हो तो दूसरा केस पुराने पेंडिंग केस से संबंधित हो तो ऐसे में दोनों ही मामले में तय प्रक्रिया और कानून के तहत आगे बढ़ना होगा।6.टेरर एक्ट और संगठित अपराध पर संशय कानूनी जानकार एडवोकेट एम. एस. खान बताते हैं कि अभी तक UAPA के तहत आतंकवाद से संबंधित अपराध को डील किया जाता रहा हैं। साथ ही संगठित अपराध के मामले को डील करने के लिए मकोका हैं। अब इन दोनों तरह के अपराध को मौजूदा बिल में धारा-111 में संगठित अपराध और 113 में टेरर गतिविधि को रखा गया हैं। ऐसे में स्पेशल एक्ट के औचित्य पर संशय हैं।शाह ने कहा कि अब वे भारतीय नागरिकों के खिलाफ अपराधों को पहले प्राथमिकता दे रहे हैं।उन्होंने आतंकवादी गतिविधियों, मॉब लिंचिंग, भारत की संप्रभुता को खतरा पैदा करने वाले अपराधों को कानूनों में शामिल करने और बलात्कार जैसे कई अपराधों में सजा में बढ़ोतरी पर भी बात की।उन्होंने जांच और अदालती सुनवाई की प्रक्रिया में तकनीकी बदलाव पर ध्यान देने और किसी मामले का फैसला कितनी तेजी से किया जाना है, इसके लिए तय की गईं समय सीमाओं पर प्रकाश डालाअमित शाह ने कहा, ‘तारीख पे तारीख’ युग का अंत सुनिश्चित होगा। ‘तमाम कानून विशेषज्ञ इस बात की चिंता जता रहे हैं कि ये बिल पुलिस को जवाबदेह न ठहराते हुए उन्हें और अधिक शक्ति देंगे।——————-  मोदी नंबर वन- विश्व के सबसे लोकप्रिय नेताओं की सूची में पीएम मोदी ने अव्वल स्थान प्राप्त किया हैं। मॉर्निंग कंसल्ट के अनुसार पीएम मोदी 76% की अप्रूवल रेटिंग के साथ सबसे लोकप्रिय वैश्विक नेता हैं। सर्वे में दूसरे पायदान पर मैक्सिको के प्रेसिडेंट ओब्राडोर रहे हैं, जिन्हें 66% रेटिंग मिली हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन 37% अप्रूवल रेटिंग के साथ 8वें पायदान पर हैं, जबकि इसी सर्वे में इटली की पीएम जॉर्जिया मैलोनी 41% रेटिंग के साथ छठें पायदान पर हैं।बता दें कि मॉर्निंग कंसल्ट ने ही इसी साल सितंबर में पीएम मोदी को विश्व स्तर पर सबसे अधिक विश्वसनीय नेता बताया था। मॉर्निंग कंसल्ट की ओर से हुए इस सर्वे में सामने आया था कि 76 प्रतिशत लोगों ने पीएम मोदी के नेतृत्व को मंजूरी दी थी।बता दें कि मॉर्निंग कंसल्ट की ओर से हुए एक सर्वे में सामने आया है कि पीएम मोदी को लोकप्रियता के मामले में 76% अप्रूवल रेटिंग मिली हैं।इस सर्वे में पीएम मोदी के अलावा अन्य देशों के नेता भी शामिल हैं, जीन्हें उनसे कम रेटिंग मिली हैं इसमें इटली की पीएम जॉर्जिया मेलोनी भी शामिल हैं। सितंबर में हुए सर्वे सामने आया था कि 76 प्रतिशत लोगों ने पीएम मोदी के नेतृत्व को मंजूरी दी थी। साथ ही उन्हें सबसे भरोसेमंद नेता बताया, जबकि 18 प्रतिशत ने ही उनके विरोध में अपना मत रखा था। मॉर्निंग कंसल्ट निर्वाचित नेताओं की साप्ताहिक अनुमोदन रेटिंग पेश करता हैं। पीएम मोदी इस सर्वे में लगातार शीर्ष पर रहे हैं, उनकी अनुमोदन रेटिंग ज्यादातर 70 के पार रही हैं।———————–ठाणे के नए पुलिस आयुक्त आशुतोष डुबंरे- महाराष्ट्र सरकार ने सोमवार को वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी आशुतोष डुंबरे को ठाणे का नया पुलिस आयुक्त नियुक्त किया था।ठाणे शहर के मौजूदा पुलिस आयुक्त जयजीत सिंह अब भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) के महानिदेशक होंगे।1994 बैच के आईपीएस अधिकारी आशुतोष डुंबरे वर्तमान में राज्य खुफिया विभाग (एसआईडी) में आयुक्त के पद पर तैनात हैं।वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी ने अपने दशकों लंबे करियर के दौरान विभिन्न पदों पर कार्य किया हैं। इससे पहले, वह ठाणे शहर में संयुक्त पुलिस आयुक्त के रूप में तैनात थे और विभिन्न अवसरों पर मुंबई के अपराध और आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) के संयुक्त आयुक्त के रूप में भी कार्य किया था।आशुतोष डुंबरे को 2021 में विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित किया गया।इस बीच, अप्रैल में एक बड़े फेरबदल में, महाराष्ट्र सरकार ने 30 आईपी एस अधिकारियों के स्थानांतरण और पदोन्नति के आदेश जारी किए थे, जिनमें से तीन पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) रैंक के थे, एक अधिकारी ने पहले कहा था।गृह विभाग की ओर से जारी आदेश के मुताबिक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी सदानंद दाते, जयजीत सिंह और बिपिन कुमार सिंह को डीजीपी पद पर प्रोन्नति दी गयी हैं।एटीएसप्रमुख सदानंद दाते अब दस्ते के महा निदेशक हैं।आदेश में कहा गया हैं कि आर्थिक अपराध शाखा के अतिरिक्त महानिदेशक बिपिन कुमार सिंह को महाराष्ट्र राज्य सुरक्षा निगम का प्रबंध निदेशक बनाया गया हैं।इसमें कहा गया हैं कि वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी मनोज लोहिया को निखिल गुप्ता की जगह औरंगाबाद शहर के पुलिस आयुक्त के रूप में स्थानांतरित किया गया हैं।आदेश में कहा गया है कि कम से कम 12 अधिकारी, जो उप महानिरीक्षक (डीआईजी) और अतिरिक्त पुलिस आयुक्त के रूप में कार्यरत थे, को पुलिस महा निरीक्षक (आईजीपी) रैंक पर पदोन्नत किया गया हैं।इन अधिकारियों में मुंबई पुलिस के मध्य क्षेत्र के अतिरिक्त आयुक्त अनिल कुंभारे भी शामिल हैं, जिन्हें आईजी, एटीएस में पदोन्नत किया गया हैं।अतिरिक्त सीपी (अपराध) ज्ञानेश्वर चव्हाण को आईजी, औरंगाबाद रेंज के रूप में पदोन्नत किया गया हैं, जबकि अतिरिक्त सीपी दिलीप सावंत को आईजी, तटीय सुरक्षा बनाया गया हैं। आदेश में कहा गया है कि निसार तंबोली अब महाराष्ट्र पुलिस मुख्यालय में आईजी प्रशासन हैं।वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी केएमएम प्रसन्ना महाराष्ट्र पुलिस मुख्यालय में आईजी स्थापना के रूप में काम करेंगे।आदेश में कहा गया है कि आईपीएस अधिकारी अभिवन देशमुख, अनिल पारस्कर, एम रामकुमार और शशि कुमार मीना को अतिरिक्त पुलिस आयुक्त के रूप में पदोन्नत किया गया हैं। जबकि दीपक सकोरे को नवी मुंबई पुलिस में अतिरिक्त आयुक्त (अपराध) के रूप में स्थानांतरित किया गया हैं।————————————————————-जैन न्यूज़-पुणे कोंडवा में आचार्य उपाध्याय पदवी-पुणे कोंडवा में 14- 12- 23 को संयम मेरु महोत्सव मनाया गया।103 वर्ष के संघ सतावीर गुरुदेव सुविशाल गच्छाधिपति श्री एवं 8 आचार्य भगवंत आदि सुविचार सागर समुदाय के शुभ सानिघ्य में आयोजित अद्भुत, अलौकिक, ऐतिहासिक, अनुपम, अविस्मर णीय, आचार्य उपाध्याय पदवी दी गई। नूतन आचार्य श्री विराग्य रत्न सागर सुरेश्वर जी महाराज नूतन आचार्य श्री विराग सागर सुरीशवारजी महाराज नूतन उपाध्याय श्री विनीत सागर जी महाराज थे 14 दिसंबर 2023 को सुबह 7:00 बजे पुष्कर धाम से भव्य शोभा यात्रा निकाली गई। सुबह 8:00 बजे 268 वी ओली के तपस्वी गुरुदेव का पारणा किया गया। सुबह 8:15 बजे से नवकारसी प्रारंभ की गई। और सुबह 9:00 बजे कार्यक्रम का प्रारंभ किया गया। और दोपहर 12:00 बजे स्वामीवात्सल्य रखा गया था।7 से 14 दिसंबर तक मेरु महोत्सव मनाया गया।शुभ स्थल – संघ स्थवीर गुरु दौलत सागरजी नगरी कोंढवा पुणे था।—————————————————-दसम आचार्य पदारोहण दिवस-दो जन-जन के हृदय परिवर्तक, क्रांतिकारी ओजस्वी प्रवचनकार, आचार्य भगवंत श्री विमलसागर सूरीश्वरजी महाराज साहब का दसम आचार्य पदारोहण दिवस गुरु-गौरव समारोह धूमधाम से मनाया गया। जिनशासन की गौरवशाली गुरु परंपरा का यशस्वी इतिहास और श्री गौतम स्वामी भगवंत की मंगलमय पूजा मनाई गई।पुरुष वर्ग श्वेत व महिला वर्ग लाल परिधान में पधारें थे।पावन प्रेरणा गणिवर्य श्री पद्मविमलसागरजी महाराज साहब की शुभ दिन -22 दिसंबर,शुक्रवार प्रात- 8.30 बजे : सकल श्रीसंघ के साथ पूज्य आचार्य भगवंत का भव्य सामैया (हमारे गृह आंगन – श्रद्धा संकल्प अपार्टमेंट, 64, एस. बी. रोड, वी. वी. पुरम् से श्री संभव नाथ भवन तक) हुआ प्रातः 9.00 बजे गुरु गौरव समारोह(संभव नाथ जैन भवन, वी. वी. पुरम् में) हुआ।कृपया इस गरिमापूर्ण समारोह में आप सभी समय पर पधारकर हमें अनुग्रहित करावें।आयोजक-निमंत्रक -श्रीमती सुमतिदेवी नथमलजी दरजानी बाफना परिवार,मोकलसर/बैंगलोर थे। इसके पहले जयनगर, बैंगलोर में श्रीसुमतिनाथजिनालय की छठी वर्षगांठ का भव्य ध्वजा रोहण उत्सव मनाया गया। 18 दिसंबर 2023, सोमवार को। पावन निश्रा-क्रांतिकारी प्रवचन प्रभावक, आचार्य भगवंत श्री विमलसागर सूरीश्वरजी महाराज साहब एवं गणिवर्य श्री पद्मविमल सागरजी महाराजआदिश्रमणवृन्द प्रातः 07.00 बजे – पूज्य आचार्य भगवंत का मंगल आगमन एवं समैया हुआ। प्रात- 07.30 बजे : नवकारशी की व्यवस्था हुई। प्रातः 08.30 बजे – सत्तरभेदी पूजा एवं शुभ मुहूर्त में ध्वजारोहण हुआ।तत्पश्चात् आचार्य भगवंत के मुखारविंद से महामंगलकारी शांति पाठ हुआ।ध्वजारोहण एवं नवकारशी के लाभार्थी :लेटा निवासी श्रीमान् इन्दरचंदजी देवीचंदजी भण्डारी परिवार आयोजक-निमंत्रक -श्री सुमति नाथ मूर्तिपूजक जैन संघ, पारसमणि रीजेंसी अपार्टमेंट्स, जयनगर, बैंगलोर। इसके पहले चामराजपेट, बैंगलोर। में हार्दिक संवेदनाओं से भरपूर भावपूर्ण आयोजन हुआ। चामराजपेट, बैंगलोर के ऐतिहासिक वर्षावास के बाद  पूज्य आचार्य श्री विमलसागरसूरीश्वरजी महाराज साहब और गणिवर्य श्री पद्मविमलसागरजी महाराज साहब आदि श्रमण भगवंतों की हुई अश्रुभीनी भव्य विदाई हुई  उपकार स्मरण समारोह(ऐतिहासिक चातुर्मास के अविस्मर्णीय पल) वर्षावास के किसी भी आयोजन के संस्मरणों को संक्षिप्त में आप मंच पर शब्दों में व्यक्त किया गया।संगीत की सुरावली के साथ उपकारी गुरु भगवंत को समर्पित मंगल विदाई समारोह हुआ।चामराजपेट के विमल-वर्षावास से जुड़े हर श्रावक-श्राविका को हार्दिक निमंत्रण दिया गया था।7 दिसंबर, गुरुवार को प्रातः 7.30 बजे पुष्पां जलि अपार्टमेंट में आप सभीभक्त जनों के लिये अल्पाहार रखा गया था। प्रातः 8.30 बजे वहां से बाजते श-गाजते श्री शीतल- बुद्धि-वीर वाटिका में प्रवेश और भव्य विदाई समारोह हुआआपका आगमन हम अपना परम सौभाग्य समझेंगे।आयोजक-निमंत्रक -पुष्पांजलि अपार्टमेंट के सभी श्रद्धालु भक्त-परिवार,चामराज पेट, बैंगलोर।बैंगलोर में पहली बार भव्य आयोजन हुआ। विविध पूजन अनुष्ठानों के द्वारा जन-जन को जिनधर्म के प्रति प्रबल श्रद्धा वान बनाने वाले। पूज्य आचार्य भगवंत श्रीविमलसागर सूरीश्वरजी महाराज साहब एवं गणीवर्य श्री पद्मविमल सागरजी महाराज साहब के यशस्वी सान्निध्य और अनूठी संयोजना में महानचामत्कारिक,धर्मरक्षक,करोड़ों देवी- देवता ओं के स्वामी,इन्द्र महाराजा श्री माणिभद्र वीर के पूजन-हवन का विराट् अनुष्ठान 10 दिसंबर, रविवार, प्रात- ठीक 9.00 बजे।सूचनाएं-पूजन-अनुष्ठान में सिर्फ पुरुष भाग ले सकते थे। शुद्ध सफेद वस्त्र जरूरी थे।स्थान के अनुसार महिला वर्ग को अनुष्ठान देखने व ग्रंथि विधान का डोरा बनाने के लिये प्रवेश दिया गया। पूजन-स्थल -श्री शीतल-बुद्धि वीर वाटिका, BK मारियप्पा होस्टल ग्राउंड,चामराजपेट, बैंगलोर था।—————————जैन समाज के विकास के लिए जैन आयोग की स्थापना करें -आ. निरंजनजी डावखरें- धन्यवाद विधायक श्री एडवोकेट निरंजन जी डावखरे साहेब। जैन समाज को न्याय, अधिकार एवं समाज के सर्वांगीण विकास के लिए अखिल भारतीय जैन अल्पसंख्यक महासंघ द्वारा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री ललितजी गांधी एवं भाजपा जैन प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष संदीपदादा भंडारी के नेतृत्व में महाराष्ट्र में मिशन जैन वेलफेयर कमीशन अभियान चलाया जा रहा हैं। जिसके तहत महाराष्ट्र सरकार से यह मांग की जारी हैं की जैनो के लिए एक स्वतंत्र आयोग का गठन किया जाए।इसी अभियान का संज्ञान लेकर हमेशा से जैन समाज के हितैषी रहे विधायक श्री निरंजन जी डावखरे साहेब ने विधान सभा सत्र के आज आखरी दिन आखरी सत्र में सदन में जैन समाज की मांग को रखते हुए महाराष्ट्र में जैन आयोग की स्थापना पर सरकार और सदन का ध्यान आकर्षित किया और जैन समाज को जैन आयोग की क्यों आवश्यकता है? को लेकर जैन समाज की उचित मांग रखी।सम्पूर्ण जैन समाज की तरफ से श्री डावखरे साहेब के प्रति हार्दिक कृतज्ञता। एवं सरकार से विनम्र निवेदन हैं कि डावखरे साहेब ने जैन आयोग को लेकर जिस तरह से उनके आयोग की मांग को विधान सभा मे तथ्यों के साथ रखा उस पर तत्काल विचार करके जल्दी जल्दी से जल्दी महाराष्ट्र में जैन आयोग की स्थापना की घोषणा करे।विकास अच्छा, प्रदेश संगठन महामंत्रीभाजपा जैन प्रकोष्ठ, महाराष्ट्र प्रदेश राष्ट्रीय सह मंत्री अखिल भारतीय जैन अल्पसंख्यक महासंघ।