बिजली गिरने से 70 से ज्यादा लोगों की मौत, कई राज्य अनलॉक की तरफ,महाराष्ट्र में बारिश का रेड अलर्ट

जयपुर – आसमान से आई आफत रविवार को जयपुर के आमेर किले पर आफत बनकर टूटी।आमेर वॉच टॉवर पर आकाशीय बिजली गिरने से अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि कई घायल हैं। फिलहाल यहां सर्च ऑपरेशन जारी हैं। जानकारी के अनुसार, ऐतिहासिक आमेर किले के ठीक सामने 500 मीटर ऊंचाई पर बने वॉच टावर पर करीब 40 लोग जुटे थे।यहां कई लोगों को रविवार की शाम सेल्फी लेते और अच्छा समय बिताते हुए देखा गया, लेकिन वो इस त्रासदी से अनजान थे। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया,मैं वहां अपने दोस्तों को लेने गया था जिन्होंने मुझे ऊपर आने के लिए कहा था। हम सेल्फी नहीं ले रहे थे, लेकिन मैंने कई अन्य लोगों को सेल्फी लेते देखा।लगभग 40 मिनट में कई बार बिजली गिरी। लोग जहां खड़े थे, वहीं गिर पड़े। आमेर में आई आपदा का शिकार हुए इजहार अली ने बताया, जब बिजली गिरी, मैं वॉच टॉवर पर था।मैं बस नीचे गिरा, लेकिन लगभग 20 मिनट के बाद मैं खुद खड़ा हुआ और कुछ लोगों को बचाने की कोशिश की।इधर, राजस्थान सरकार का दावा हैं कि वह इस तरह की त्रासदी से निपटने के लिए तैयार हैं। कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने इंडिया टुडे को बताया, कोई ढिलाई नहीं थी। सरकार इस तरह की त्रासदी को लेकर तैयार थी। उन्होंने कहा कि सीएम ने मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये शीघ्र जारी करने के निर्देश दिए हैं। एसडीआरएफ और राज्य पुलिस की पांच टीमें रविवार रात से यह पता लगाने की कोशिश कर रही हैं कि आमेर इलाके में और शव तो नहीं हैं।अब तक 11 शव निकाले जा चुके हैं और 15 घायलों को बचाया जा चुका हैं। राज्य में आकाशीय बिजली गिरने से अब तक 20 लोगों की मौत की पुष्टि हुई हैं।झालावाड़ के बांरा में आकाश से बिजली गिरने से दो लोगों की मौत हो गई।आसमान से बिजली गिरने से उत्तर प्रदेश,राजस्थान, मध्य प्रदेश, झारखंड मैं 73 लोगो के करीब खाक हो गए। झारखंड के खूंटी में आकाशीय बिजली गिरने से एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत हो गई वह दो झुलस गए। देश में हर वर्ष आकाशीय बिजली की चपेट में आने से हजारों लोगों की मौत होती हैं। बिजली हमेशा उचीं जगह पर गिरती हैं जैसे ऊंची बिल्डिंग, पहाड़, खंभे, पेड़। प्रधानमंत्री मोदी जी ने दुख जताया हैं और केंद्र की ओर से मृत व्यक्ति के परिवार वालों को दो 2 लाख का मुआवजा देने की घोषणा की हैं। —————कई राज्य अनलॉक की तरफ बढ़ रहे हैं-      नई दिल्ली – कोविड-19 केसेज में कमी के बीच राज्‍य अनलॉक की रफ्तार बढ़ा रहे हैं। सोमवार से कई राज्‍य प्रतिबंधों में और ढील देने जा रहे हैं। हालांकि केंद्र सरकार ने चेताया है कि कोविड-19 से बचने के लिए सभी जरूरी सावधानियों का पालन जारी रखा जाए। उत्‍तर प्रदेश, राजस्‍थान, दिल्‍ली, पश्चिम बंगाल, पंजाब, मध्‍य प्रदेश समेत कई राज्‍यों ने काफी हद तक अनलॉक कर दिया हैं। आइए जानते हैं कि सोमवार (12 जुलाई) से किस राज्‍य में क्‍या नियम लागू होंगे। राजस्‍थान से वीकेंड कर्फ्यू हटा लिया गया है। सोमवार से मूवी थियेटर्स के अलावा ट्रेनिंग सेंटर्स, टूरिस्‍ट्स की आवाजाही, शादियां, इनडोर और आउटडोर गेम्‍स की अनुमति होगी।राज्‍य में बाहर से आने वाले टूरिस्‍ट्स ने अगर वैक्‍सीन की पहली डोज भी लगवा ली हैं तो उन्हें निगेटिव RT-PCR या क्‍वारंटीन होने की जरूरत नहीं होगी। सिनेमा हॉल, थियेटर्स, मल्‍टीप्‍लेक्‍सेज को 50% सिटिंग कैपेसिटी के साथ खुलने की इजाजत होगी। समय सुबह 9 बजे से रात 8 बजे तक। लेकिन सिर्फ उन्‍हीं के लिए जिन्‍हें कम से कम एक डोज लग चुकी हैं। पंजाब सरकार ने 12 जुलाई से वीकेंड बैन और नाइट कर्फ्यू हटाने का फैसला क‍िया हैं। घरेलू समारोहों में 100 लोग और बाहर 200 लोग जुट सकेंगे। बार, थियेटर, रेस्‍तरां, स्‍पॉ, स्विमिंग पूल्‍स, मॉल्‍स वगैरह में उन्‍हीं लोगों को जाने दिया जाएगा जिन्‍होंने वैक्‍सीन की कम से कम एक डोज ले रखी होगी। दिल्‍ली सरकार ने स्‍कूल खोलने की दिशा में तैयारियां शुरू कर दी हैं। सोमवार से स्‍कूलों के ऑडिटोरियम या असेंबली हॉल खुल सकते हैं मगर केवल ट्रेनिंग के लिए। अभी स्‍टूडेंट्स को नहीं बुलाया जाएगा। सिनेमा और थियेटर इस हफ्ते भी नहीं खुलेंगे। साथ ही अभी मेट्रो-बसों में 50 फीसदी सिटिंग कैपेसिटी का नियम लागू रहेगा। मेट्रो में खड़े होकर सफर करने की इजाजत नहीं होगी। महाराष्‍ट्र में ‘लेवल 3’ की पांबंदियां लागू हैं। अहमदनगर के 22 से ज्‍यादा गांवों में लॉकडाउन हैं। इन गांवों में किसी तरह के समारोह की इजाजत नहीं है। पुणे में भी पुरानी गाइडलाइंस ही चलेंगी। सभी दुकानों, कारोबारों को 4 बजे तक बंद करने के आदेश दिए गए हैं। कर्नाटक में चरणबद्ध तरीके से अनलॉक क‍िया जा रहा हैं। कोडागू जिले से लॉकडाउन हटा लिया गया हैं। पब्लिक ट्रांसपोर्ट, शॉपिंग कॉम्‍पलेक्‍सेज, बेंगुलुरु मेट्रो खुल चुके हैं।पुंडुचेरी के सीएम एन रंगास्‍वामी ने रविवार को कहा कि कक्षा 9-12 के सभी स्‍कूल 16 जुलाई से खुल जाएंगे। उन्‍होंने कहा कि सभी कॉलेज भी 16 जुलाई से खुलेंगे। मध्‍य प्रदेश में रविवारीय लॉक डाउन पूरी तरह से हट गया हैं। मगर नाइट कर्फ्यू की पाबंदियां लागू हैं। केरल में मासिक पूजा के लिए सबरीमला मंदिर 17 जुलाई से 21 जुलाई के बीच खुल रहा हैं। मगर पूजा में शामिल होने के लिए श्रद्धालुओं का पूरी तरह वैक्‍सीनेट होना जरूरी हैं। राज्‍य में जिम, इनडोर गेम्‍स और पर्यटन की जगहों को खोल दिया गया हैं।
ओडिशा में आंशिक लॉकडाउन को 16 जुलाई तक बढ़ाया गया था। रथयात्रा को देखते हुए पुरी में अतिरिक्‍त कर्फ्यू लगाया गया हैं। पश्चिम बंगाल सरकार ने 15 जुलाई तक पाबंदियां बढ़ा रखी हैं। आगे रियायतों पर कोई फैसला अगले दो-तीन दिन में हो सकता हैं। तमिलनाडु में कोविड मामलों में गिरावट के बावजूद लॉकडाउन को 19 जुलाई तक बढ़ाया गया हैं। उत्‍तर प्रदेश में नाइट कर्फ्यू की टाइमिंग फिर बदल गई हैं। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने रविवार को कहा कि राज्‍य में रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा। 21 जून को नाइट कर्फ्यू की टाइमिंग शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक से बदलकर रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक कर दी गई थी। यूपी सरकार ने कंटेनमेंट जोन्‍स के बाहर के बाजारों को खोलने की अनुमति दे दी हैं। —————————————-महाराष्ट्र में बारिश का रेड अलर्ट-           नई दिल्ली- भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने रविवार को बताया कि दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई स्थानों पर सोमवार को मूसलाधार बारिश होने की संभावना हैं। IMD ने कहा कि दक्षिण पश्चिम मानसून को दिल्ली सहित उत्तर भारत में 10 जुलाई तक दस्तक देनी थी, लेकिन रविवार शाम तक ऐसा नहीं हुआ। IMD के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने बताया कि दिल्ली के ऊपर मानसून के सक्रिय होने की अनुकूल परिस्थितियां हैं, क्योंकि पूर्वी हवाओं की वजह से हवा में आर्द्रता बढ़ गई हैं। उन्होंने कहा कि निम्न दबाव का क्षेत्र बनने से भी मानसून को गति मिलेगी। आईएमडी की वैज्ञानिक सुनीता देवी ने बताया कि मानक संचालन प्रक्रिया के अनुसार सुबह साढ़े आठ बजे तक पिछले 24 घंटे के दौरान बारिश की सूचना के आधार पर मानसून के शुरुआत की घोषणा की जाती हैं।IMD ने कहा हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब,हरियाणा,चंडीगढ़ और दिल्ली, गुजरात क्षेत्र, मध्य महाराष्ट्र, तटीय आंध्र प्रदेश और यनम, तेलंगाना, तटीय और आंतरिक कर्नाटक, केरल और माहे, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराइकल के कई स्थानों पर मूसलाधार बारिश होने का पूर्वानुमान हैं। मौसम विभाग ने उत्तर भारत के कई राज्यों को अलर्ट जारी किया हैं। उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में बहुत भारी बरसात हो रही हैं। जबकि तटीय महाराष्ट्र के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया हैं। महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग,रत्नागिरी, रायगढ़, पालघर में भारी बारिश हो रही हैं। तल कोकण में सभी नदियां उफान पर हैं। मुंबई, ठाणे और नवी मुंबई में भी 12 जुलाई से 15 जुलाई तक भारी बारिश की संभावना व्यक्त की गई हैं।बुलेटिन में संकेत दिया गया हैं कि जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्तिस्तान और मुजफ्फ राबाद, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, पश्चिमी मध्य प्रदेश, बिहार, उप हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, ओडिशा, अंडमान-निकोबार , सौराष्ट्र और कच्छ, मराठवाड़ा, रायलसीमा, उत्तरी आंतरिक कर्नाटक और लक्षद्वीप के कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती हैं। IMD के पूर्वानुमान के मुताबिक पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़,दिल्ली,अंडमान-निकोबार और तेलंगाना में गरज चमक के साथ तेज हवाएं (30 से 40 किलोमीटर प्रतिघंटा) चल सकती हैं। IMD ने रविवार को गुजरात के तटवर्ती क्षेत्रों के साथ कुछ इलाकों में 14 जुलाई तक तेज हवाओं के साथ भारी बारिश का अनुमान जताया और मछुआरों को अरब सागर में नहीं जाने की सलाह दी हैं। IMD के अहमदाबाद केंद्र ने जाखू और दीव के बीच उत्तरी गुजरात के तटवर्ती क्षेत्र में 2.5-3.6 मीटर तक समुद्री लहर उठने की आशंका जतायी हैं।मौसम विभाग ने कहा ,11-14 जुलाई के दौरान गुजरात के उत्तरी और दक्षिणी तटों और उत्तरी अरब सागर में हवा की गति 45-55 किमी प्रति घंटे से 65 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने की आशंका हैं।मौसम विभाग ने अपने ताजा बुलेटिन में कहा है कि सौराष्ट्र-कच्छ क्षेत्र समेत गुजरात के कई स्थानों और केंद्र शासित प्रदेश दादरा और नगर हवेली, दमन और दीव में 11 से 14 जुलाई के बीच हल्की से मध्यम बारिश होगी।दक्षिण गुजरात के कुछ हिस्सों में भी भारी से बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान हैं। मौसम विभाग के मुताबिक मौजूदा मानसून के दौरान गुजरात में औसत से 48 प्रतिशत कम बारिश हुई हैं। राज्य के 33 जिलों में केवल तीन में सामान्य बारिश हुई हैं।